Corona Warriors: पापा हमें भूल गए हो क्या? ये सवाल सुन एक पिता के आंखों में आंसू आ जाते हैं. पिछले 6 महीने से इस सवाल के जवाब में पिता कहते आ रहे हैं कि जल्दी आऊंगा, हमारे देश इस वक्त संकट में है. दिल्ली के एक एनजीओ में शव वाहन चलाने वाले बलदेव को हर दिन अपनी बेटी को यही जवाब देना पड़ता है. लेकिन मजबूरी है कि वो अपने घर नहीं जा सकते. Also Read - Corona Warriors: 50 साल की नर्स मुमताज बेगम किडनी की मरीज, हुआ था कोरोना, ठीक हो फिर काम पर लौटीं...

बलदेव दिल्ली के शहीद भगत सिंह सेवा दल एनजीओ में शव वाहन चलाते हैं. वे उन लाशों को ले जाते हैं जिनकी पिछले 6 महीनों से कोरोना संक्रमण से मौत हो रही है. उनके शवों को अस्पताल से श्मशान घाट पहुंचाने और उनके अंतिम संस्कार करने में भी मदद करते हैं. Also Read - Corona Warriors: मरीज को तुरंत चाहिए था प्लाज्मा, पुलिसकर्मी ने किया डोनेट

दिल्ली के विवेक विहार निवासी बलदेव मार्च महीने से ही अपने परिवार से नहीं मिले हैं, उनके घर में एक 5 साल की बच्ची और उनकी बीवी है. दोनों हर दिन इस इंतजार में रहते हैं कि कब बलदेव घर आएंगे और हमसे मुलाकात करेंगे. Also Read - देश में कोरोना वायरस से अब तक 99 डॉक्टर्स की गई जान, IMA ने रेड अलर्ट जारी किया

हालांकि बलदेव उन कोरोना योद्धाओं में से एक हैं, जो हर दिन 4 से 5 कोरोना संक्रमित शवों को अस्पताल से शमशान घाट पहुंचाते हैं.

दिल्ली की शहीद भगत सिंह सेवा दल एनजीओ में बलदेव पिछले करीब 18 सालों से शव उठाने का काम कर रहे हैं. बलदेव ने बताया, “मार्च में आखिरी बार मैंने अपने परिवार से मुलाकात की थी. अब बस सुबह शाम फोन पर ही बीवी और बच्ची से बात होती है.”

उन्होंने बताया, “मेरी बिटिया हर दिन मुझसे पूछती है कि ‘पापा हमें भूल गए हो क्या? मैं कहता हूं भूला नहीं हूं. मैं घर नहीं आ सकता क्योंकि मुझे डर है कि कहीं मेरी वजह से मेरे परिवार को कोरोना संक्रमण न हो जाये.”

एनजीओ की गाड़ियां जिस पार्किंग में खड़ी होती हैं, वहीं बलदेव के साथ अन्य काम करने वाले लोगों के लिए भी रहने की व्यवस्था कर दी गई है.

एनजीओ शहीद भगत सिंह सेवा दल के आपदा प्रबंधन डिपार्टमेंट के हेड ज्योत जीत ने बताया, “बलदेव करीब 18 सालों से हमारे संस्थान में काम कर रहे हैं. हमारी 48 लोगों की टीम है. हम शवों को उठाने, दाह संस्कार कराने का काम करते हैं, बलदेव उसी टीम का हिस्सा हैं.”
(एजेंसी से इनपुट)