मुरैना: मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में एक स्थानीय अदालत ने एक दुकानदार को ग्राहक से दस रुपये के सिक्के लेने से इनकार करने का दोषी पाया और उसे अदालत उठने तक की सजा और 200 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई.सहायक लोक अभियोजक अधिकारी भूपेंद्र सिंह ने बताया कि जिले में जौरा के न्यायिक मजिस्ट्रेट जेपी चिडार की अदालत ने मंगलवार को एक दुकानदार अरुण जैन को सामान के बदले ग्राहक आकाश से 10 रुपये के सिक्के लेने से इनकार करने का दोषी ठहराया. न्यायालय ने आरोपी दुकानदार को अदालत उठने तक की सजा और 200 रुपये के अर्थदंड से दंडित किया. Also Read - उमर अब्दुल्ला की पीएसए के तहत नजरबंदी: न्यायालय ने कहा, यह व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला, 5 मार्च को अगली सुनवाई

नए कस्टमर को नहीं जोड़ रहा PAYTM पेमेंट बैंक, जानें क्या है कारण Also Read - दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया के ओएसडी को कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा

उन्होंने बताया कि ग्राहक आकाश ने जौरा कस्बे में बनियापारा स्थित दुकानदार अरुण जैन की दुकान से 17 अक्टूबर 2017 को दो रुमाल खरीदने के लिये भुगतान बाबत उसे 10-10 रुपये के सिक्के दिए. दुकानदार ने 10 रुपये के सिक्के यह कहते हुए आकाश को वापस कर दिए कि ये सिक्के अब बाजार में चलन में नहीं हैं. Also Read - VIDEO: दोषियों को फांसी देने में देरी को लेकर निर्भया के मां-पिता ने कोर्ट के बाहर किया विरोध प्रदर्शन

बंद हो सकता है ऑनलाइन शॉपिंग पर भारी डिस्काउंट, सरकार बना रही है प्लान

उन्होंने बताया कि खरीददार ने दुकानदार को बताया कि कलेक्टर मुरैना के आदेश हैं कि 10 रुपये के सिक्कों को लेने से कोई इनकार नहीं कर सकता है और ये सिक्के बाजार में चलन में हैं, लेकिन दुकानदार नहीं माना और उसने ग्राहक से रुमाल वापस लेकर उसे वहां से चलता कर दिया.

मध्य प्रदेश चुनाव: राहुल गांधी ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग से करेंगे चुनाव प्रचार का आगाज

सिंह ने बताया कि खरीददार ने घटना की रिपोर्ट जौरा पुलिस थाने में दर्ज कराई. पुलिस ने दुकानदार अरुण जैन के विरुद्ध कलेक्टर द्वारा सिक्के स्वीकार करने के संबंध जारी आदेश का उल्लंघन करने का मामला दर्ज कर दुकानदार को गिरफ्तार कर लिया और फिर जांच के बाद प्रकरण का चालान अदालत में पेश किया.

उन्होंने बताया कि न्यायिक मजिस्ट्रेट जौरा ने प्रकरण की सुनवाई के बाद दुकानदार अरुण जैन को भादंवि की धारा 188 के तहत कलेक्टर के आदेश की अवहेलना करने का दोषी पाया और उसे अदालत उठने तक की सजा और 200 रुपये के अर्थदंड से दंडित किया.