उत्तर प्रदेश के रामपुर में एक अजीबो गरीब प्रेम प्रसंग ने ले ली आशिक और उसकी पत्नी की जान। सुभाष नाम का युवक 2 महीने पहले ही किराए पर रहने आया था। युवक और मकान मालकिन के बीच गलत संबंध बना और देखते ही देखते युवक के साथ मकान मालकिन की दो बेटियों का भी गलत संबंध बन गया। मगर इस दलदल में खुद को डुबो चुके सुभाष को क्या पता था की उसे इसके बदले अपनी जान गवानी होगी।

सुभाष ने किराए पर रहते हुए अपनी प्रेमिका मंजू से शादी कर ली। इस शादी से सुभाष की मकान मालकिन और उसकी दो बेटियों बिलकुल ना खुश थी। उन्हें सुभाष को किसी और का होकर रहना देखा नहीं जा रहा था। इस लिए तीनों ने जो प्लान किया वह दिल दहला देने वाला था। पहले तीनों ने सुभाष की पत्नी मंजू को कैंची से गोदकर मार डाला और सुभाष को जहर दे दिया। इस तरह से अवैध संबंध, ईर्ष्या और नफरत की आग ने सुभाष के जीवन को तहस नहस कर दिया। यह भी पढ़ें: 10 लोगों की हत्या करने वाला अपराधी, गर्लफ्रेंड के फेसबुक स्टेटस के कारण मारा गया

पुलिस ने दोनों के क़त्ल के आरोप में मकान मालकिन और उसकी दो बेटियों को अपने हिरासत में लें लिया है। पुलिस ने बताया है की तीनों ने अपने जूर्म को कुबूल कर लिया है। इस पुरे वारदात को अंजाम देने में मास्टरमाइंड महिला की छोटी बेटी को माना जा रहा है। कहा जा रहा है की पांच साल से मृतक सुभाष से वह बहुत प्यार कर रही थी, मगर सुभाष की किसी और से शादी करना वह सह नहीं पाई और इस खुनी खेल को अंजाम दें दिया।

सुभाष यादव पर पहले से ही मंजू को भगाने का मुकदमा बिलारी थाने में दर्ज था। यह रिपोर्ट मंजू के घरवालों द्वारा किया गया था। वहीं पुलिस को सुभाष की पत्नी की गर्दन कटी लाश सैफनी के गांव छितौनी महेश सराय में में मिली थी। वहीं सुभाष को पुलिस ने आनन फानन में इलाज के लिए मुरादाबाद भेजा। पुलिस ने इस पुरे मामले में माकन मालकिन शकीलन सहित उसकी बेटी रुकइया, नूरी और पुत्र बबलू को सोमवार को अदालत में पेश किया जहां से सभी को जेल भेज दिया गया।