हैदराबाद। किरायेदार से करीब एक साल का बकाया किराया वसूलने के लिये यहां 73 वर्षीय एक शख्स और उसके बेटे ने मिलकर कथित तौर पर गोदाम से तीन करोड़ 24 लाख रुपये मूल्य की किताबें चुरा लीं. पुलिस ने आज कहा कि पी नरसिम्हा रेड्डी और उनके बेटे पी श्रीनिवास रेड्डी और किताब की दुकान के एक मालिक जिसने किताब खरीदी थी, को गिरफ्तार किया गया और बेची गई किताबों को बरामद किया गया.

7 लाख रुपये किराया बकाया था

ये किताबें एन देवाडिगा ने एकत्र की थीं जिन्होंने अप्रैल 2016 में रेड्डी से यह गोदाम लीज पर लिया था. रचाकोंडा पुलिस आयुक्त महेश एम भागवत ने कहा कि किरायेदार को 50 हजार रुपये मासिक किराया देना था और वह 14 महीनों से किराया नहीं दे पाया था जो सात लाख रुपये था ऐसे में घाटे की भरपाई के लिए आरोपी ने चोरी को अंजाम दिया.

नहीं रहा 300 साल पुराना बरगद का पेड़, ग्रामीणों ने दी अनूठी विदाई

10 ट्रकों से ले गए किताब

पुलिस ने कहा कि चोरी की किताबों को 10 ट्रकों के जरिए यहां बेगमपेट में एक किताब की दुकान में पहुंचाया गया. दुकान के मालिक मोहम्मद रजियुद्दीन ने 15 लाख रुपये में यह किताबें खरीदीं. उसने बाद यह किताबें मुंबई स्थित एक दूसरे खरीदार को बेच दीं.