गुजरात के अहमदाबाद में एक चौकाने वाली घटना सामने आई है जहां 12 छात्रों ने कुछ ऐसा किया जो शायद ही अपने कही सुना होगा। दरअसल, यहां 12 मेसे सभी छात्र एक परीक्षार्थी होने के साथ ही परीक्षक भी थे। चौक गए न आप इस खबर को पड़कर क्यों कभी भी कोई परीक्षार्थी कभी परीक्षक नहीं बन सकता मगर यह अजीब खबर अहमदाबाद से मिली है जहां एक छात्र ने अपने अर्थशास्त्र का पेपर खुद लिखा और फिर उसे कथित तौर पर लाल स्याही से जांच भी खुद की। Also Read - PM मोदी ने गुजरात में 3 परियोजनाओं का किया उद्घाटन, कहा- 'अन्नदाता को ऊर्जा दाता बनाने का भी हो रहा काम'

Also Read - आज गुजरात को कई परियोजनाओं की सौगात देंगे पीएम मोदी, ‘किसान सूर्योदय योजना’ को भी करेंगे शुरू

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक शायद यह छात्र पकड़ा नहीं जाता मगर उसकी इस होसियारी ने उसे पकड़वा दिया। बतादें की हर्षद सरवैया नाम के छात्र ने खुद का पेपर चेक किया और उसके बाद उसने खुद को अर्थशास्त्र में 100/100 अंक दे दिए। यह उसने अपना पेपर लिखने के बाद किया पर्यवेक्षक को अपना पेपर देने से पहले। यह भी पढ़ें: IAS की परीक्षा में फेल युवक बना साइको, अपने माता-पिता समेत 22 लोगों को तलवार से काटा Also Read - नवरात्रि आयोजन को लेकर सीएम विजय रूपाणी ने कहा- जनता का स्वास्थ हमारे लिए बड़ी प्राथमिकता है

इस मामले के सामने आने के बाद गुजरात सेकेंडरी और हायर सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड (GSHSEB) ने हर्षद सरवैया नाम के इस छात्र के नाम पर केस फाइल किया है। वहीं आपको बतादें की हर्षद नाम के इस छात्र ने अर्थशास्त्र छोड़कर अपने बाकि पेपरों में कितने अंक पाएं हैं। संस्कृत – 4 , गुजराती – 13, सोशियोलॉजी – 20, साइकोलॉजी – 5, जियोग्राफी – 35 ऐसे कम अंक पाएं हैं।