नई दिल्लीः जीबी पंत कृषि विश्वविद्यालय में आए दिन रैगिंग और जूनियर छात्रों को परेशान करने के मामले सामने आते रहे हैं. बीते कुछ दिनों पहले ही जूनियर छात्रों के कपड़े उतरवाकर उन्हें परेड कराने का मामला सामने आया था, जिसके बाद पूरे विश्वविद्यालय में हड़कंप मच गया था, लेकिन नया मामला सामने आने के बाद अब छात्रावास में छात्राओं की सुरक्षा पर सवाल खड़े हो रहे हैं. नया मामला सामने आने के बाद किसी और पर नहीं बल्कि हॉस्टल में छात्र-छात्राओं की सुरक्षा और उनकी जिम्मेदारी लेने वाले हॉस्टल वार्डन के चरित्र पर सवाल खड़े हुए हैं.

दरअसल, हाल ही में जीबी पंत कृषि विश्वविद्यालय के छात्रावास में छात्राओं से द्विअर्थी बातें करने और रात में फोन कर परेशान करने का मामला सामने आया है. मिली जानकारी के मुताबिक, एक जीबी पंत कृषि विश्वविद्यालय के एक वार्डन ने छात्रावास में रह रही छात्रा को आधी रात को फोन किया था.

छात्रा को फोन कर वार्डन ने कहा कि, ‘बीबी घर पर नहीं है, खाना कौन बनाएगा. तुम ही आ जाओ.’ वार्डन के कॉल करने पर छात्रा ने इसकी शिकायत विश्वविद्यालय प्रबंधन और कुलपति से की, लेकिन विश्वविद्यालय प्रबंधन ने इस मामले पर कोई कार्रवाई नहीं की और मामले को दबाने की भी कोशिश की.

मिली जानकारी के मुताबिक छात्र-छात्राओं का पूरा समूह कुलपति से मिलने पहुंचा था, जहां छात्रों ने छात्रावास के वार्डन पर आधी रात में छात्राओं को फोन करने की शिकायत की. छात्राओं ने बताया कि वार्डन आधी रात को उन्हें फोन करता है और उनसे द्विअर्थी बातें करते है. अगर फोन कट कर दिया तो दोबारा फोन कर परेशान करते है. वहीं मामला सामने आने पर उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने जीबी पंत कृषि विश्विद्यालय के वार्डन द्वारा हॉस्टल की छात्रा से बद्तमीजी करने और घर पर खाना बनाने के लिए बुलाने को लेकर कुलपति को जांच के आदेश दिए हैं.