अगर आप फिल्मों के शौकीन हैं तो आप हीरो हिरोइन या कलाकारों की पोशाक के फैन जरूर हुए होंगे. बाहुबली, स्पाइडरमैन या और भी फिल्में आपके ऊपर कपड़ों को लेकर छाप छोड़कर जरूर गई होंगे. ये तो आप भी जानते हैं कि कपड़ों पर खर्च काफी होता है और इनका दोबारा किसी फिल्म में इस्तेमाल भी कम ही होता है लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि एक बार इस्तेमाल होने के बाद इन कपड़ों का होता क्या है?

– ज्यादातर बार ऐसा होता है, जब ये कॉस्ट्यूम्स फेंकी नहीं जाती हैं. हीरो-हीरोइन या महत्वपूर्ण कलाकारों द्वारा पहनी गई पोशाक को फिल्म बनाने वाला प्रोडक्शन हाउस अलग-अलग बक्सों में भरकर सुरक्षित रख देता है और उनपर लेबल लगा देता है. इन लेबलों से ही भविष्य में इनकी पहचान तय होती है.

– प्रोडक्शन हाउस कई बार इन पोशाकों को नई फिल्म की शूटिंग के दौरान भी यूज करते हैं. बनने वाली नई फिल्मों में मुख्य कलाकारों की पोशाक को जूनियर आर्टिस्ट पहनते हैं.

– जो फिल्में सुपरहिट होकर इतिहास बना देती हैं या जिन्हें जबर्दस्त सफलता मिलती है, उनके कलाकार ही आउटफिट्स को यादों के रूप में सहेज लेते हैं.

किसी फिल्म के लिए अगर डिजाइनर खास डिमांड पर ड्रेस तैयार करते हैं तो भविष्य में उसके इस्तेमाल होने की संभावना नहीं ही होती है. ऐसी स्थिति में डिजाइनर ही इन कपड़ों को अपने पास रख लेते हैं. बॉम्बे वेलवेट एक ऐसी ही फिल्म है. इसमें अनुष्का ने एक ड्रेस पहनी थी जिसका वजन 35 किलो था. ये ड्रेस डिजाइनर निहारिका खान ने खास तौर से बनाई थी. फिल्म की शूटिंग के बाद निहारिका ने ये ड्रेस वापस ले ली.