नई दिल्ली: आज 29 अप्रैल है यानी कि आज के ही दिन आसमान से टूट कर गिर रहा खगोलीय पिंड 52768 (1998) OR2 धरती के समीप से होकर गुजरेगा. हालांकि कि नासा के वैज्ञानिकों ने पहले ही बता दिया है कि इससे पृथ्वी को किसी प्रकार का कोई भी नुकसान नहीं होने वाला है, क्योंकि यह पृथ्वी से 40 लाख किलोमीटर की दूरी से गुजरेगा. ऐसे में कई लोग इस खगोलीय पिंड को देखने भी चाहते होंगे. तो आज हम आपको इसी के बारे में बताने वाले हैं. Also Read - कोरोना महामारी के बीच धरती पर आ रही एक और आफत! पृथ्वी की कक्षा में प्रवेश कर रहा यह बड़ा उल्कापिंड

यह क्षुद्रग्रह बुधवार यानी 29 अप्रैल को पृथ्वी के सबसे करीब से होकर गुजरेगा. इसे आप आज रात फ्लाईबी (FLYBY) पर लाइव देख सकते हैं. वर्चुअल टेलीस्कोप के जरिए इटली से इस पूरे मंजर को नि:शुल्क प्रसारित किया जाएगा. एक खबर की मानें तो वर्चुअल टेलीस्कोप के प्रमुख गियानलुक मेसी ने कहा कि दूरबीन क्षुद्रग्रह को आसानी से ट्रैक कर लेंगे क्योंकि इसे आसपास काफी मात्रा में रोशनी दिखाई देगी. इस प्रसारण को देखने के लिए दिए गए यूट्यूब वीडियो लिंक पर क्लिक करें- https://www.youtube.com/watch?v=OIGusqIR6RA#action=share Also Read - मोदी कैबिनेट के अहम फैसले: MSME के लिए 20000 करोड़ का पैकेज, जानिए किसानों को क्या मिला

बता दें कि सोशल मीडिया पर इस तरह का दावा किया जा रहा था कि माउंट एवरेस्ट के आधे भाग जितना बड़ा एक पिंड धरती के पास से गुजरने वाला है. यह घटना 29 अप्रैल के दिन घटेगी. सुबह के 4.56 मिनट के करीब यह उल्का पिंड लगभग 31000 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से पृथ्वी के समीप से गुजरेगी जो कहीं न कहीं पृथ्वी पर तबाही मचाने के लिए काफी है. Also Read - Asteroid OR2: आज पृथ्वी के पास से गुजरेगा पहाड़ जैसा उल्कापिंड, क्या आएगी प्रलय, जानें हर बात

हालांकि नासा ने बाद में इस खबर को खंडित करते हुए कहा कि इस क्षुद्रगह के कारण धरती पर किसी प्रकार का प्रभाव नहीं पड़ने वाला है. नासा की मानें तो एक क्षुद्रग्रह जिसका नाम 52768 (1998) OR2 रखा गया है. बताया जा रहा है कि यह पिंड 40 लाख किलोमीटर की दूरी से पृथ्वी के पास से गुजरेगा. इस कारण पृथ्वी पर किसी प्रकार की क्षति नहीं होगी.