हैदराबाद: 8 साल के समन्यु पोथुराजु ने एक बार फिर वो कर दिखाया है, जिसकी कई बड़े कल्पना तक नहीं कर सकते. ऊंची पहाड़ी, पत्थर भरा रास्ता, जमा देनी वाली ठंड, चारों ओर बर्फ ही बर्फ, इसके बाद भी आठ साल के इस हैदराबादी बच्चे ने ऑस्ट्रेलिया के सबसे ऊंचे पर्वत कोज़िअस्को को फतह कर लिया है. ये पर्वत ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स राज्य में है. समुद्रतल से 2, 228 मीटर (7,310 फुट) ऊंचा यह पर्वत ऑस्ट्रेलिया का सबसे ऊंचा पर्वत है.

मां व बहन भी थीं साथ
समन्यु ने अफ्रीका की इस सबसे ऊंची चोटी को 12 दिसंबर को फतह किया. इस दौरान उनके साथ पांच लोगों की टीम थी. इसमें उनकी मां लवन्या व बहन भी साथ थीं. कोच व डॉक्टर भी समन्यु के साथ थे. ऑस्ट्रेलिया की इस चोटी को फतह करने के बाद समन्यु ने कहा कि वह रुकने वाले नहीं हैं. उनका अगला प्लान जापान के फुजि पर्वत को फतह करने का है. वह जल्द ही इस पर्वत पर चढ़ाई करेंगे. समन्यु ने कहा कि वह एयर फोर्स में अधिकारी बनना चाहता है.

मां लवन्या बेटे की सफलता से हैं खुश
समन्यु की मां लवन्या बेटे की सफलता से खुश हैं. उन्होंने कहा कि वह बेटे के साथ होती हैं. कई बार बीच में ही रुक जाती हैं, लेकिन समन्यु नहीं रुकता. उन्होंने बताया कि अब हर पर्वत को फतह करने के पीछे एक मकसद होता है. इस बार समन्यु ने बुनकरों को सपोर्ट करने के लिए ये चढ़ाई की. बिना किसी उद्देश्य के कोई पर्वत फतह नहीं किया जाएगा.

इससे पहले अफ्रीका की पहाड़ी की थी फतह
इससे पहले समन्यु ने करीब एक साल पहले अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी पर फतह हासिल की थी. पोथुराजु ने अफ्रीका के माउंट किलिमंजारो पर चढ़ाई कर तिरंगा फहराया था. माउंट किलिमंजारो पर तिरंगा फहराकर इतिहास रच दिया था. ये एक ऐसा पर्वत है, जहां अत्यधिक ठंड रहती है. इस अफ्रीकी पहाड़ी की ऊंचाई भी 5,895 मीटर है. समन्यु अफ्रीका की इस चोटी पर जाने वाले दुनिया के सबसे कम उम्र के पर्वतारोही बने थे. समन्यु ने तंजानिया की सबसे ऊंची चोटी को भी फतह किया था. इसी दौरान समन्यु ने कहा था कि उनका अगला लक्ष्य ऑस्ट्रेलिया पीक पर चढ़ाई करेंगे, और उन्होंने ये कर भी दिखाया है.