नई दिल्ली: सपना चौधरी के गाने तेरी आख्या का यो काजल… पर भारत-पाकिस्तान के सैनिकों ने जमक ठुमके लगाए. यह अनोखा नजारा देखने को मिला रूस में. भारत और पाकिस्तान की सेनाओं ने रूस में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के एक बड़े आतंकवाद रोधी अभ्यास में पहली बार हिस्सा लिया. इसकी समाप्ती के मौके पर बुधवार रात इंडियन आर्मी की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में दोनों देश की सेना के जवानों ने सबकुछ भुलाकर बॉलीवुड, पंजाबी और सपना चौधरी के गाने पर जमकर ठुमके लगाए. हालांकि इसका कतई यह मतलब नहीं है कि परमाणु शक्ति से लैस दो दुश्मन देश दोस्त बन गए हैं और उन्होंने अपनी दुश्मनी भुला दी है. Also Read - Covid-19: UN ने कहा- विश्व अर्थव्यवस्था मंदी में चली जाएगी, भारत, चीन हो सकते हैं अपवाद

बुधवार को अपनी संस्कृति को प्रदर्शित करने और मेजबानी करने की बारी भारत की थी. इस मौके पर चीन और मेजबान रूस समेत प्रत्येक देश के सैन्य कमांडरों का स्वागत उनके माथे पर तिलक लगाकर किया गया. पारंपरिक लाल रंग की राजस्थानी पगड़ी पहनाई गई. सैन्य अभ्यास में भाग ले रही सेना के जवानों के लिए लजीज भारतीय व्यंजन भी परोसे गए. Also Read - पाकिस्तान: कोरोना से लड़ाई में बाधा बनी तब्लीगी जमात की गतिविधियां, मुख्यालय में मिले 27 कोरोना संक्रमित

पिछले साल जून में एससीओ का पूर्ण सदस्य बने के बाद भारती ने पहली बार इस अभ्यास में हिस्सा लिया. एससीओ की पहल के तौर पर हर दूसरे साल एससीओ सदस्य देशों के लिए एससीओ शांति मिशन अभ्यास किया जाता है. यह संयुक्त अभ्यास रुस के चेबारकुल में 22-29 अगस्त के दौरान रुस के सेंट्रल मिलिट्री कमीशन द्वारा आयोजित किया गया. चीनी मीडिया के अनुसार अभ्यास में चीन, रुस, कजाखस्तान, ताजिकिस्तान, किर्गिजस्तान, भारत और पाकिस्तान के कम से कम 3000 सैनिकों ने हिस्सा लिया. Also Read - Sapna Choudhary ने भगवान से किस गुनाह की मांगी माफी, बोलीं-तेरी मर्जी के बिना...

चीन की सरकारी मीडिया ग्लोबल टाईम्स के अनुसार उजबेकिस्तान के 10 प्रतिनिधि पर्यवेक्षक की भूमिका में रहे. नई दिल्ली में रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार 200 सदस्यीय भारतीय दल में इंफैंट्री के सैनिक और वायुसेना के कर्मी सहित अन्य सैन्य कर्मी शामिल रहे. कांग्रेस ने रूस में शंघाई सहयोग संगठन(एससीओ) के आतंकवाद विरोधी सैन्य अभ्यास में पाकिस्तानी सेना के साथ भारतीय सेना की टुकड़ी के शामिल होने को लेकर धानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था और आरोप लगाया था कि इससे भारत में आतंकवाद से पीड़ित हजारों लोगों का अपमान हुआ है.