कानपुर: यूपी के कानपुर में एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है. यहां एक नवविवाहिता के शादी के बाद पति की मौसेरी बहन यानी अपनी ननद से ही संबंध हो गए. पति ने अपनी नवविवाहित पत्नी को कई बार ननद के साथ पकड़ा. इसके बाद पति व उसके परिवार ने दुल्हन को चेतावनी दी. इस पर दुल्हन ने कहा कि ‘वह ननद से अलग नहीं हो सकती है. अब तो कानून बन गया है. अगर किसी ने रोका तो वह जिंदा नहीं रहेगी.’ इस जवाब के बाद हैरत में आए पति ने प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है. पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है. बता दें कि हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने सहमति से समलैंगिक संबंधों को कानूनी रूप से जायज ठहराया है. इससे पहले सहमति-असहमति दोनों स्थिति में यह अपराध की श्रेणी में था.

धारा 377 पर फैसलाः दुनिया के 25 से ज्यादा देशों ने दी है समलैंगिकता को मान्यता

6 माह पहले ही हुई थी शादी
दैनिक जागरण में प्रकाशित खबर के अनुसार कानपुर में एक फैक्ट्री में काम करने वाले युवक की शादी 6 माह पहले ही हुई थी. युवक के अनुसार पड़ोस में उसकी मौसेरी बहन रहती है, जो पत्नी की ननद लगती है. अविवाहित ननद से शादी के कुछ दिन में ही पत्नी की घनिष्टता बढ़ गई. पति के अनुसार, उसने कई बार पत्नी को उसकी ननद के साथ ऐसे हाल में देखा जो आपत्तिजनक था. पति ने बताया कि इसके बाद भी उसके दिमाग में पत्नी के समलैंगिक होने का ख्याल नहीं आया, लेकिन इसके बाद पत्नी सार्वजनिक रूप से भी ऐसा करने लगी. पास ही बने एक सार्वजनिक शौचालय में भी ननद के साथ पत्नी को कुछ महिलाओं ने भी आपत्तिजनक स्थिति में देखा. इसके बाद ये बात घर के बाहर लोगों को भी पता चल गई.

समलैंगिकता पर SC का बड़ा फैसला, दो बालिगों की सहमति से अप्राकृतिक संबंध जायज

ननद संग घंटों कमरे में रहने लगी पत्नी, पुलिस के पास पहुंचा पति
पति ने बताया कि घर के कामकाज छोड़ पत्नी ननद के साथ घंटों तक कमरे में बंद रहने लगी. इसके बाद फिर से पति ने पत्नी को आपत्तिजनक हालत में देखा. तब उसे समझ आया कि पत्नी के ननद से समलैंगिक संबंध हैं. जब उसने पत्नी से इस बारे में कहा. घर वालों को बुलाया गया, इस पर पत्नी ने साफ कहा कि वह ननद के बिना नहीं रह सकती है. अब तो कानून भी बन गया है. अगर किसी ने उसे रोकने को कोशिश की तो वह जान दे देगी. परिजनों ने इसके बाद घटना की जानकारी जिला प्रशासन को दी. पुलिस का कहना है कि घटना की जांच की जा रही है. मामले को समझा जा रहा है.