मुंबई: महाराष्ट्र स्टेट बोर्ड फॉर सेकंडरी एंड हायर सेकंडरी एजुकेशन ने 1 मार्च से शुरू हो रही सेकंडरी स्कूल यानि 10वीं की परीक्षा के लिए सख्त दिशा-निर्देश जारी किए हैं. बोर्ड ने कहा है कि परीक्षा में समय से लेट आने वाले छात्रों को प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी. 1 मार्च से शुरू हो रही परीक्षा में मुंबई से 3.82 लाख छात्र-छात्राएं शामिल होंगे. बोर्ड के मुताबिक नए नियम परीक्षा व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने और अधिक पारदर्शी बनाने के लिए लाए गए हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, हायर सेकंडरी सर्टिफिकेट यानि 12वीं की परीक्षा के लिए पहले ही इस नियम को लागू कर दिया गया है और अब सेकंडरी स्कूल परीक्षा के लिए इस नियम को लागू किया जा रहा है. महाराष्ट्र स्टेट बोर्ड फॉर सेकंडरी एंड हायर सेकंडरी एजुकेशन के मुंबई डिविजन के इनचार्ज सचिव सुभाष बोरसे ने कहा कि, ”एक बार परीक्षा शुरू होने के बाद किसी भी छात्र को परीक्षा हॉल में एंट्री नहीं दी जाएगी, हम इस साल परीक्षा में कोई भी कोताही बर्दाशत नहीं करेंगे”.

बोरसे ने आगे कहा, ”छात्रों को परीक्षा शुरू होने के आधा घंटा पहले ही अपने एग्जाम सेंटर पर पहुंच जाना चाहिए, छात्रों को मुंबई के ट्रैफिक का भी ध्यान रखते हुए समय से घर से निकलना चाहिए, टाइम में सख्ती के अलावा परीक्षा में कोई बदलाव नहीं किया गया है”. इससे पहले मंगलवार को खबर आई थी कि हायर सेकंडरी परीक्षा में एग्जाम हॉल में लेट पहुंचने पर 14 छात्रों को परीक्षा देने से रोक दिया गया था. परीक्षा में नकल रोकने के लिए किए गए इंतजामों के बारे में बताते हुए बोरसे ने कहा, ”बोर्ड ने परीक्षा में नकल रोकने के लिए फ्लाइंग स्क्वाड टीमों की संख्या बढ़ा दी है, परीक्षा में किसी भी तरह की नकल बर्दाशत नहीं की जाएगी और यदि कोई छात्र नकल करता हुआ पकड़ा जाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी”.