नई दिल्ली: आपके चारों ओर पानी ही पानी हो, विशाल समुद्र का कोई किनारा नजर न आ रहा हो, आसपास कोई नाव या जहाज न हो आप अपनी जान बचाने के लिए क्या कर सकते हैं. इस तरह के दृश्य की कल्पना से ही हाथ-पांव फूलने लगते हैं. लेकिन दुनिया में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जिन्होंने अपने हौसले से मौत को मात दी है. ऐसे ही एक शख्स हैं कर्नाटक के रहने वाले 40 साल के नागाराज. उन्होंने अपनी जिंदगी बचाने के लिए समुद्र की लहरों और समुद्री जीवों से 7 घंटे तक संघर्ष किया. लहरों के विपरीत वह 7 घंटे तैरते रहे.

ये हैं अगस्त महीने में दुनिया के 10 सबसे गर्म शहर, लिस्ट में नई दिल्ली भी शामिल

मछली बेचकर अपने परिवार का गुजारा करने वाले नागराज 16 अगस्त गुरुवार सुबह साढ़े दस बजे समुद्र के बीच अन्य साथियों के साथ मछली पकड़ने गए थे. उनके साथियों ने बताया कि अचानक मौसम खराब हो गया. उन लोगों ने ध्यान नहीं दिया कि नागाराजन कब समुद्र के बीच गिर पड़े. लगभग डेढ़ घंटे बाद उनकी नजर पड़ी तो वह नाव पर नहीं थे. नागराज के गायब होने की खबर फैलने के बाद मछली पकड़ने वाली 35 नावों से उनकी तलाश शुरू हुई. तीन घंटे की तलाशी के बाद उन्हें निराशा हाथ लगी. तलाशी अभियान में लगीं नावें वापस चली गईं. ऐसा माना जाता है कि समुद्र में गिरने के बाद आमतौर पर कोई व्यक्ति 3 घंटे ही जिंदा रह सकता है.

मिसाल: 9 साल की अनुप्रिया ने गुल्लक तोड़ केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए भेजे रुपए, बोली- नहीं खरीदूंगी साइकिल

तीन घंटे में नागराज का पता नहीं चल पाने के बाद उनके साथियों ने उन्हें मरा समझ तलाशी अभियान रोक दिया और वापस लौट आए. लेकिन नागराज समुद्र में तैर रहे थे. उनके पास से तीन नावें गुजरीं लेकिन किसी का भी ध्यान उनकी ओर नहीं गया. नागाराजन ने उन लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचने का प्रयास किया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. नागाराजन ने बताया कि लगभग डेढ़ घंटे बाद कुछ नावें उन्हें खोजते हुए आईं. वह उनसे कुछ ही दूरी पर थे लेकिन वे लोग उन्हें नहीं देख सके.

बेंगलुरू में होगी भारत के ‘गगन यान’ के एस्ट्रोनॉट की ट्रेनिंग, देवनहल्ली में बनेगा प्रशिक्षण केंद्र

समुद्री जीव नागाराजन से चिपक रहे थे, लेकिन उन्होंने अपने हाथपांव हिलाने नहीं छोड़े. वह समुद्र में शाम 6 बजे तक तैरते रहे. पश्चिमी तट के पास उन्हें एक व्यापारी पोत आता हुआ नजर आया. इसी व्यापारी पोत ने नागाराजन को वहां से निकाला और न्यू मेंगलुरु पोर्ट अथॉरिटी से संपर्क किया. न्यू मेंगलुरु पोर्ट ट्रस्ट के उप संरक्षक कैप्टन आरएस पटनायक ने बताया कि वह नागाराजन को बचाने के लिए तट रक्षक जहाज से संपर्क कर रहे थे लेकिन पोत बहुत दूर था इसलिए उन्होंने मर्चेंट शिप को निर्देशित किया कि नागाराजन को रेस्क्यू कराया जाए. शाम को लगभग 7 बजे पुलिसवालों ने सलेन को बताया कि नागाराजन को रेस्क्यू करा लिया गया है.