नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली में आईटीओ (ITO) चौराहे के पास पिछले हफ्ते पैदल यात्रियों के लिए SkyWalk का उद्घाटन किया गया. इस चौराहे के पास सड़क पर हर वक्त गाड़ियों की रेलम-पेल से पैदल यात्रियों को चलने-फिरने में दिक्कत न हो, इसके मद्देनजर ही SkyWalk बनाया गया है. लेकिन सरकार को इस बात की भी चिंता है कि कहीं यह SkyWalk प्रेमी जोड़ों यानी Love-birds के लिए डेटिंग-स्पॉट (Dating Spot) न बन जाए. आम पैदल यात्रियों को SkyWalk पर कोई असुविधा न हो और प्रेमी जोड़े यहां प्यार की पींगें न बढ़ा सकें, इसके मद्देनजर बाउंसर (Bouncer) तैनात किए गए हैं. Also Read - दिल्लीः पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर से प्रदर्शनकारी लिए गए हिरासत में, खाली कराई गई सड़क

SkyWalk Also Read - Siddharth Malhotra has miss to player Akshay Kumar on skywalk | स्काईवॉक पर सिद्धार्थ मल्होत्रा को आई 'खिलाड़ी' अक्षय कुमार की याद

अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक SkyWalk के चार इंट्री-गेट हैं जिन पर सुरक्षा गार्डों को तैनात किया गया है. लेकिन प्रेमी जोड़ों की निगरानी के लिए SkyWalk पर खास तौर से बाउंसर्स लगाए गए हैं. चूंकि SkyWalk पर यात्रियों की सुविधा के लिए फूड-प्लाजा और अन्य स्टॉल भी हैं, ऐसे में कहीं प्रेमी जोड़े इसकी सीढ़ियों या अन्य स्थानों को स्थाई अड्डा न बनाने लगें, इसलिए बाउंसरों को लगाया गया है. सुबह 8 बजे से लेकर रात 8 बजे तक की ड्यूटी पर लगाए गए सभी 6 बाउंसरों की तैनाती SkyWalk बनाने वाली कंपनी स्वदेशी सिविल इंफ्रास्ट्रक्चर ने की है. 15 हजार मासिक की तनख्वाह पर तैनात इन बाउंसरों में से एक रविंदर ने अखबार को बताया कि वह और उसके साथी किसी भी प्रेमी जोड़े को SkyWalk पर ज्यादा देर तक नहीं बैठने देते हैं. रविंदर ने कहा कि आजकल लोग सुरक्षा गार्डों को अनसुना कर देते हैं, लेकिन ड्रेस या कद-काठी देखकर हमारी कही बातों को कोई अनसुना नहीं कर सकता.

SkyWalk की निर्माता कंपनी स्वदेशी इंफ्रास्ट्रक्चर के इलेक्ट्रिकल इंजीनियर बंशी लाल ने अखबार को बताया कि हमारी कंपनी के पास SkyWalk की मेंटेनेंस की भी जिम्मेदारी है. इस पर चोरी या छीना-झपटी जैसी कोई घटना न हो और पैदल यात्री इसके कारण मुसीबत में न आएं, इसके लिए ही बाउंसर्स तैनात किए गए हैं. SkyWalk पर तैनात एक अन्य बाउंसर अमित ने अखबार को बताया कि प्रेमी जोड़ों को यह बात समझनी होगी कि यह SkyWalk पैदल यात्रियों के लिए है, न कि उनका डेटिंग-स्पॉट. SkyWalk पर आने वाला कोई प्रेमी जोड़ा किसी बाउंसर की बात क्यों मानेगा के सवाल पर अमित ने कहा कि प्रेमी जोड़े हमारे कपड़े देखकर समझ जाते हैं और यहां से चलते बनते हैं.