एक शख्स ने नीलामीघर के सामने पुराना सा दिखने वाला चश्मा रखा और चला गया. चश्मों के साथ एक नोट भी था. इसमें लिखा था कि ये चश्मे महात्मा गांधी के हैं. बाद में पता चला कि ये सच है. Also Read - IIT Kharagpur महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर आयोजित करेगा अंतरराष्ट्रीय ई-संगोष्ठी, दुनिया के टॉप संस्थान होंगे शामिल 

अब इन चश्मों की नीलामी होगी. ब्रिटेन स्थित कंपनी ‘ईस्ट ब्रिस्टल ऑक्शंस’ महात्मा गांधी के चश्मों की एक जोड़ी की नीलामी करेगी. Also Read - अमेरिकी सांसदों, राजदूत ने वॉशिंगटन में गांधी की प्रतिमा में तोड़फोड़ की निंदा की

कंपनी के कर्मचारियों ने इसे एक सादे लिफाफे में रखा पाया था. यह दक्षिम पश्चिम इंग्लैंड में सबसे बड़ा ऑक्शन हाउस है. नीलामीकर्ता एंड्रयू स्टोव ने कहा, “कोई शुक्रवार रात उन्हें हमारे लेटर बॉक्स में डाल गया था और वे सोमवार तक वहीं रहे.” Also Read - अमेरिका में प्रदर्शनकारियों ने महात्मा गांधी की मूर्ती तोड़ी, ट्रंप प्रशासन ने मांगी माफ़ी, कहा- हम निंदा करते हैं

उन्होंने कहा, “मेरे स्टाफ कर्मचारियों में से एक ने मुझे थमाते हुए कहा कि एक नोट भी है जिसमें लिखा है कि ये चश्मे महात्मा गांधी के हैं. मैंने सोचा यह तो दिलचस्प है.”

स्टोव ने कहा कि जब उन्होंने जांच की तो पाया कि गांधी ने सोने की परत चढ़े चश्मों को पहना था. स्टोव ने बताया कि उन्होंने इसके विक्रेता को फोन किया और वह भी इस बारे में जानकारी आश्चर्यचकित रह गया.

चश्मों के 19,600 डॉलर से ज्यादा में बिकने की उम्मीद है.

स्टोव ने कहा कि चश्मों के मालिक ने उन्हें बताया कि उसके परिवार के एक सदस्य को 1920 के दशक के दौरान महात्मा गांधी ने दक्षिण अफ्रीका दौरे के दौरान दिए थे. चश्मों को पीढ़ी दर पीढ़ी सौंपा जाता रहा था.

उन्होंने कहा कि हमने तारीखों पर गौर किया और यह सब मेल खाता है. इन चश्मों की ऑनलाइन नीलामी 21 अगस्त को होगी.
(एजेंसी से इनपुट)