नई दिल्ली: दुनियाभर में एलियन्स को लेकर लगातार अंतरिक्ष वैज्ञानिक बात करते रहते हैं. कई बार कई तरह वीडियो व तस्वीरों को भी इंटरनेट व सोशल मीडिया पर शेयर किया जाता है और उनका संबंध एलियन्स से है यह बताया जाता है. लेकिन आपको यह जानकर बेहद हैरानी होगी कि दुनिया की सबसे बड़ी स्पेस एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों का यह मानना है कि वह बहुत जल्द ही एलिन्स को ढूंढ सकते हैं. इसके पीछे नासा अगले 10 सालों के लिए एक योजना पर काम भी करने वाला है. Also Read - Coronavirus: इन तीन भारतीय कंपनियों को नासा ने दिया वेंटिलेटर विनिर्माण का लाइसेंस

नासा के वैज्ञानिक अगले 10 सालों में अलौकिक जीवन के संकेतों का पता लगाने के लिए वे ब्रह्मांड पर काम करने वाले हैं. इस दौरान वे प्राचीन मार्टिन रॉक में बृहस्पति और शनि के छिपे चंद्रमाओं पर छिपे हुए चंद्रमा, महासागरों व सितारों का परीक्षण करेंगे. इस बाबत साल 2005 में नासा के पूर्व प्रमुख वैज्ञानिक एलेन स्टोफान ने कहा था कि उनका मानना है कि धरती के बाहर भी कहीं जिंदगी है और इसके प्रमाण अगले एक या दो दशकों में मिल जाएंगे. Also Read - एलन मस्क का सपना रहा अधूरा, स्पेसएक्स का ऐतिहासिक प्रक्षेपण टला, ट्रंप भी पहुंचे थे देखने

चीफ वैज्ञानिक एलन ने एक विदेशी मीडिया हाउस से बात करते हुए कहा था कि हमें क्या और कहां देखना है यह हमें मालूम है. फिलहाल तो अधिकतर मामलों के जानकारी के लिए हमारे पास तकनीक भी मौजूद है. बता दें कि नासा ब्रह्मांड में एलियन्स के जीवन का पता लगाने व उन्हें ट्रैक करने की योजना पर काम कर रहा है. एक खबर के मुताबिक एस्ट्रोसाइंटिस्ट और नोबल पुरस्कार विजेता डिडर क्यूलॉज की मानें तो उनके मुताबिक ब्रह्मांड में सिर्फ इंसान ही जिंदा नहीं है. ब्रह्मांड में बहुत सारे ग्रह हैं और इस कारण जिंदगी कहीं न कहीं और भी होगी. Also Read - 'ANITA' ने खोज निकाला दूसरा ब्रह्मांड! सालों पुरानी बिग बैंग थ्योरी क्या सच साबित हुई, यहां समय चलता है उल्टा