हीरे का जिक्र आए और पन्ना की चर्चा न हो, ऐसा नहीं हो सकता. इसका कारण यह है कि मध्य प्रदेश की ऐतिहासिक नगरी पन्ना की पहचान हीरे के कारण ही है. आने वाले समय में दुनिया भी पन्ना के हीरा की कहानी को जान सकेगी. Also Read - मिसाल: पांचवीं तक पढ़ी मोबिना ने पढ़ाया IAS अफसरों को पाठ

कहां है पन्ना
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से लगभग 450 किलोमीटर झांसी-रीवा मार्ग पर स्थित पन्ना. अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल खजुराहो से महज 50 किलोमीटर दूरी है इस हीरा नगरी की. यहां हीरा मिलने पर कई मजदूरों की तकदीर बदली है. वे लखपति और करोड़पति भी बने हैं. पन्ना की धरती से आखिर हीरा कैसे निकलता है और तराशा जाता है, इसे लोग नहीं जानते. इस पूरी कहानी को दुनिया को बताने के मकसद से यह डायमंड पार्क और व्यूप्वाइंट स्थापित किए जाने के प्रयास तेज हो गए हैं. Also Read - Love Jihad: उमेश से मंदिर में की लव मैरिज, मां बनने के बाद पता चल पाया कि वह है सलमान

कैसे निकलता है हीरा
क्षेत्रीय सांसद विष्णु दत्त शर्मा का कहना है कि जमीन से हीरा निकालने की कहानी बड़ी रोमांचकारी होती है. जो भी हीरा निकलने की प्रक्रिया को देखेता है वह रोमांचित हुए बिना नहीं रह सकता. अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल खजुराहो के करीब है पन्ना. देसी तथा विदेशी पर्यटकों को हीरा की कहानी के जरिए लुभाया जा सकता है. Also Read - Love Jihad : उमेश बनकर की थी लव मैरिज, निकला सलमान तो धर्म परिवर्तन के लिए बनाने लगा दबाव

बन रहा डायमंड पार्क
पन्ना के कलेक्टर संजय कुमार मिश्र का कहना है कि इसी सप्ताह कार्य प्रारंभ कराया जाएगा, जिससे डायमंड पार्क की स्थापना होकर लोगों को देखने का अवसर प्राप्त हो सके. पर्यटन का सीजन प्रारंभ हो गया है. बाहर से आने वाले देशी-विदेशी पर्यटकों को हीरे के संबंध में जानकारी आसानी से प्राप्त हो सके.

कैसा होगा पार्क
प्रस्तावित पार्क के अन्दर हीरे के साथ हीरा उत्खनन एवं तराशने की पूरी प्रक्रिया, हीरे का इतिहास एवं महत्व से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी. इसके साथ ही ऐसी फिल्म बनाई जाएगी जो हीरा की पूरी कहानी बताएगी. एक तरफ जहां पार्क बनेगा वहीं व्यूप्वाइंट भी बनेगा.

संभावना इस बात की जताई जा रही है कि पर्यटकों के आने से पन्ना नगर में व्यवसाय को बढ़ावा मिलेगा और स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे.
(एजेंसी से इनपुट)