पन्ना (मध्य प्रदेश): समय कब बदल जाए कुछ कह नहीं सकते. जिस मजदूर ने 200-300 रुपए की दिहाड़ी पर जिंदगी भर काम किया, वह अब करोड़पति बन गया है. खेत में काम करने के दौरान उसके हाथ हीरा लगा. पहले उसे समझ नहीं आया, लेकिन जब उसने जानकारी जुटाई तो पता चला कि हीरा उसकी किस्मत और दिन बदलने को काफी है. हीरा अधिकारी ने बताया कि मजदूर को मिला हीरा एक करोड़ की कीमत का है. यह कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार की है.

यहां छिपा है अरबों टन हीरा, वैज्ञानिकों ने कुछ यूं उठाया रहस्य से पर्दा

बताया जा रहा है कि 29 दिसंबर को हीरा खदान क्षेत्र कल्याणपुर में राधेश्याम सोनी को एक हीरा मिला. वह काम कर रहा था. इसी दौरान उसे हीरा मिला. वह हीरा लेकर हीरा कार्यालय पहुंचा। यहां उसे पता चला कि हीरा की कीमत एक करोड़ रुपए है. उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. मजदूर को समझ नहीं आ रहा कि क्या करे. उसकी किस्मत पूरी तरह से बदल चुकी है. हीरा अधिकारी कार्यालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, यह हीरा 18 कैरेट 13 सेंट का है, जो चेहरा उज्जवल किस्म का है. बाजार पर नजर रखने वालों का कहना है कि यह हीरा अंतर्राष्ट्रीय बाजार में लगभग एक करोड़ रुपये मूल्य का है. बता दें कि मध्य प्रदेश के पन्ना जिले की पहचान हीरा के कारण है. यहां कई लोगों की जिंदगी हीरा मिलने से बदली है. कुछ दिन पहले ही लाखों की कीमत का हीरा खेत में मिला था. बताते हैं कि यहां कई लोग हीरे की तलाश में ही जुटे रहते हैं. कई जिंदगी भर हीरा तलाशने के चक्कर में बर्बाद भी हुए हैं.

किसान को खेत में मिला 30 लाख का डायमंड, सोना-हीरे उगल रही यहां की धरती, जानें क्यों

हीरा उत्खनन के लिए जाना जाता है पन्ना, कटनी में सोने का पहाड़
बता दें कि मध्य प्रदेश का जिला पन्ना ऐसी जगह है, जहां की धरती सोना, हीरा उगलती है. यहां हीरा निकाले जाने की खदाने हैं. यहां से हीरा खनन परियोजना के तहत हीरे निकाले जाते हैं. कई इलाकों में खनिज विभाग की परमीशन से हीरे निकाले जाते हैं. देश भर से खरे हीरे की तलाश में हीरा व्यापारी यहां आते हैं. वहीँ, आम लोगों के हाथ भी कई बार हीरा लग जाता है. नदियों के किनारे या खेतों में लोग हीरे की तलाश में लगे रहते हैं. इस तरह से कई लोग लखपति हो चुके हैं. मध्य प्रदेश के कटनी में एक सोने का पहाड़ हैं. यहां लोग चुपके से सोने की तलाश में लगे रहते हैं. करीब डेढ़ दशक पहले लोगों ने पहाड़ी से बड़ी मात्रा में सोना लूटने की कोशिश की थी. तब पहाड़ की सुरक्षा के लिए सेना लगानी पड़ी थी.