नई दिल्ली: मोदी के गृहराज्य गुजरात के अहमदाबाद में एक मंदिर के निर्माण के लिए पाटीदार समुदाय ने तीन घंटे में 150 करोड़ रुपए जुटा लिए. यानी हर मिनट में 84 लाख रुपए आए. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक 1000 करोड़ रुपये के इस प्रॉजेक्ट में देवी उमिया माता का मंदिर बनना है. उमिया माता, पाटीदार समुदाय की दो बड़ी उपजाति कडवा पाटीदारों की कुलदेवी मानी जाती हैं. 40 एकड़ में विश्व उमियाधाम मंदिर और सामुदायिक कॉम्प्लेक्स बन रहा है. इसके 2024 तक पूरा होने की उम्मीद है.

‘सोने के दिल वाली मछली’ ने दो भाइयों को बना दिया लखपति, इतने में बिकी

इस मंदिर के निर्माण के लिए लोगों से चंदे की अपील की गई थी. यहां बनने वाले कॉम्प्लेक्स में एक अस्पताल, स्वास्थ्य सुविधाएं, खेल और सांस्कृतिक कॉम्प्लेक्स बनेगा. इसके अलावा एक शिक्षण संस्थान, लड़के-लड़कियों के लिए हॉस्टल और कई दूसरी सुविधाएं यहां उपलब्ध होंगी. प्रॉजेक्ट के कॉर्डिनेटर और बीजेपी के सदस्य सीके पटेल ने कहा, ‘विश्व उमिया फाउंडेशन ने इस प्रॉजेक्ट के लिए 100 करोड़ रुपये जुटाने की अपील की गई थी. रविवार को 150 करोड़ रुपये मिले. उन्होंने बताया कि मुंबई में रह रहे पटेल भाइयों ने सबसे बड़ी रकम 51 करोड़ रुपये का योगदान किया. ये पटेल भाई मेहसाणा के नदासा गांव के रहने वाले हैं. मंगल (93) और नारन पटेल (88) दोनों भाई मुंबई में जमीन के व्यवसाय से जुड़े हैं.

इंदिरा नूई की मां चाहती थीं 22 साल की उम्र में शादी कर ले उनकी बेटी, फिर जो चाहे वो करे

मुंबई के वाकेश्वर, गोरेगांव और दादर क्षेत्रों में प्रॉजेक्ट चल रहे हैं. परिवार का कहना है कि उन्होंने उमिया माता के मंदिर के लिए सात साल पहले गोरेगांव में जमीन दान दी थी. इन दोनों भाइयों ने हरिद्वार में उमिया माता के मंदिर के लिए 71 लाख रुपये भी दान दिए थे.विश्व उमिया फाउंडेशन के केंद्रीय दफ्तर का उद्घाटन गुजारत के डिप्टी सीएम नितिन पटेल ने रविवार को किया. प्रॉजेक्ट के कन्वीनर आरपी पटेल ने कहा कि प्रारंभिक प्रतिक्रिया बहुत उत्साहजनक रही है. फंड जुटाने के लिए और मीटिंग की जाएंगी.