भारतीय मूल के वैज्ञानिक के नेतृत्व वाले दल को अमेरिका में एक लाख डॉलर के पुरस्कार से नवाजा गया है. इस दल ने ऐसा काम किया है जो मेडिकल जांच प्रणाली में बेहद अहम माना जा रहा है.

इस दल ने लार के जरिये संक्रामक रोगों और पोषक तत्वों की कमी का मोबाइल फोन के जरिये पता लगाने वाली त्वरित प्रणाली विकसित की है.

सौरभ मेहता की अगुवाई वाले कॉरनेल के अनुसंधानकर्ता दल को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) के टेक्नोलॉजी एक्सिलरेटर चैलेंज पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. यह पुरस्कार वैश्विक स्वास्थ्य की दृष्टि से महत्वपूर्ण है. ये खोज नॉन-इन्वेसिव (जिसमें त्वचा को काटा नहीं जाता या शरीर में किसी उपकरण का प्रवेश नहीं कराया जाता) निदान प्रौद्योगिकी के विकास को बढ़ावा देता है.

कॉलेज ऑफ ह्यूमन इकोलॉजी में पोषण विज्ञान विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर मेहता के मुताबिक, लार के बायोमार्कर का इस्तेमाल करने वाली प्रौद्योगिकियां मलेरिया जैसे रोगों और शरीर में लौह तत्व आदि की कमी का पता लगाने की दिशा में क्रांतिकारी साबित हो सकती है.

उन क्षेत्रों में ये और भी अधिक कारगर हो सकती हैं जहां प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों तक पहुंच एवं पारंपरिक प्रयोगशाला आधारित जांच सीमित हैं.

इस सलाइवा (लार) परीक्षण में एक छोटा 3डी-प्रिंटेड एडेप्टर मोबाइल फोन पर लगाया जाता है और उसे एक मोबाइल ऐप से जोड़ा जाता है.

यह ऐप फोन कैमरा के माध्यम से जांच स्ट्रिप की तस्वीर लेकर मलेरिया, लौह तत्वों की कमी आदि के संबंध में 15 मिनट में परिणाम देता है.
(एजेंसी से इनपुट)