नई दिल्‍ली: राजधानी दिल्‍ली में चोरी करने का अजीबोगरीब मामला सामने आया है. पुलिस ने तीन युवकों को पकड़ा है, जो कि साउथ-ईस्‍ट दिल्‍ली में पिज्‍जा डिलीवरी करने वालों को निशाना बनाते थे. लूटपाट के दौरान ये पिज्‍जा छिनने के साथ ही डिलीवरी ब्‍यॉय से उसके पैसे, मोबाइल और बाइक तक छिन लेते थे. फिलहाल पुलिस ने तीन युवकों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस पूछताछ में उन्‍होंने चोरी करने की बात कबूल की है. Also Read - सीएम केजरीवाल की 'रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ' अनूठी मुहिम शुरू, राघव चड्डा लोगों के बीच पहुंचे

Also Read - गुरुग्राम में प्रदूषण के नियमों का उल्लंघन करने पर 29 लोगों पर कार्रवाई, एक दिन 7.25 लाख रुपये जुर्माना लगा

हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक, बदमाशों के गिरोह का एक सदस्य फ़ोन पर पिज्जा का ऑर्डर देता था. इसके बाद अलग-अलग स्थानों पर डिलीवरी शेड्यूल कर दी जाती थी. इसके बाद ये पिज्‍जा डिलीवर करने वालों से पिज्जा, फोन, नकदी और उनके दोपहिया वाहनों तक लूट लेते थे. पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार तीनों युवकों में से दो ने पहले पिज्‍जा डिलीवरी करने वाले के रूप में काम किया था. इसके चलते ही वे लूटपाट की घटना को अंजाम देते थे. बीते रविवार को पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस पूछताछ में इन्‍होंने एक दर्जन से अधिक मामलों में लूटपाट करने की बात कबूल की है. पुलिस ने इनके पास से क्रेडिट कार्ड स्वाइप मशीन, तीन मोबाइल फोन और मोटरसाइकिल भी बरामद की है. Also Read - Model Town Hit and Run: रात में चुपके से अंकल की होंडा सिटी लेकर निकला नाबालिग, चार को रौंदकर हुआ फरार, गिरफ्तार

BJP MLC के पति समेत 8 लोगों ने समाजवादी आवास योजना के नाम पर हड़पे रुपये, धोखाधड़ी का केस

ऑनलाइन बुक करते थे खाना, फिर डिलीवरी करने वाले को लूटते

पुलिस के अनुसार, ये बदमाश पुलिस के निशाने पर थे और शनिवार और रविवार के बीच तीनों को पुलिस ने पकड़ ही लिया. पुलिस उपायुक्त (दक्षिणपूर्व) चिन्मोय बिस्वाल ने बताया कि ज़मरुदपुर में एक पिज्जा आउटलेट से डिलीवरी करने वाले को मालवीय नगर और कालकाजी में दो रेस्तरां के लोगों को श्रीनिवासपुरी में लूट लिया था. बताया कि उक्‍त सभी तीन घटनाओं में आरोपी, दीपक (एक नाम) (23), चिराग शर्मा (23) और करण महाजन (19) के रूप में पहचाने गए आरोपी ने ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से विभिन्न रेस्तरां में खाने के लिए आदेश दिए थे. साथ ही जिन स्‍थानों पर उसे डिलीवर करना था, उसमें ज्यादातर श्रीनिवासपुरी के आसपास का इलाका था. डिलीवरीमैन ने पुलिस को बताया कि जब वे डिलीवर करने पहुंचे तो बदमाशों ने चाकू से खाने को छीन लिया और क़ीमती सामान भी लूट लिया.

पुलिस ऐसे पहुंची आरोपियों तक

पुलिस ने जांच के दौरान पाया कि लूटपाट की जो तीन घटनाएं हुईं, उसमें पहला इस्तेमाल किया गया मोबाइल फोन नंबर किसी और के नाम पर पंजीकृत था. लेकिन अगली दोनों घटनाओं में खाना डिलीवरी करने का जो आदेश मिला, वह डिलीवरी ब्‍यॉय के लुटे गए मोबाइल से किया गया. इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस पूछताछ में तीनों ने चोरी की बात कबूल कर ली.