PM Modi Swearing-In Ceremony: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी औपचारिक तौर पर दूसरी बार गुरुवार को देश की बागडोर संभालेंगे. इसके लिए राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया गया है. इस शपथ ग्रहण समारोह के लिए देश और दुनिया से तमाम लोगों को आमंत्रित किया गया है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, नरेंद्र मोदी और उनके सहयोगियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे. इस शपथ ग्रहण समारोह के लिए राष्ट्रपति भवन में जोरशोर से तैयारियां चल रही है.

इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस शपथ ग्रहण समारोह (PM Modi Swearing-In Ceremony) के लिए 5000-6000 अतिथियों (Guest List for Swearing-In Ceremony) को आमंत्रित किया गया है. 2014 के शपथ ग्रहण समारोह में करीब 4000 अतिथि आए थे. लोगों की भारी संख्या को देखते हुए राष्ट्रपति भवन प्रशासन ने शपथ ग्रहण स्थल को भी बदल दिया है. आमतौर पर राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल में आयोजित होने वाला ये कार्यक्रम इस बार मुख्य प्रांगण में आयोजित होगा. इसी प्रांगण में विदेशी अतिथियों के आने पर विशेष भोज का आयोजन होता है. इससे पहले केवल तीन बार इस प्रांगण में शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन हुआ है. प्रधानमंत्री चंद्रशेखर ने भी इसी प्रांगण में शपथ ग्रहण किया था. यह प्रांगण राष्ट्रपति भवन परिसर के मुख्य द्वार और मुख्य भवन के बीच है. चंद्रशेखर के बाद अटल बिहार वाजपेयी और पिछले बार यानी 2014 में पीएम मोदी ने इस प्रांगण में शपथ लिया था.

अमित शाह को मंत्री बनाने पर बंटी भाजपा! इस कारण रह सकते हैं सरकार से बाहर

विशेष भोज का इंतजाम
राष्ट्रपति भवन ने गुरुवार शाम में होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में आने वाले अतिथियों के लिए भोज का भी इंतजाम किया है. अधिकारियों के मुताबिक इस शपथ ग्रहण समारोह को खास लोगों के लिए नहीं बल्कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को ध्यान में रखकर आयोजित किया जा रहा है. इस बार शपथ ग्रहण समारोह में 14 देशों के राष्ट्राध्यक्ष या शासनाध्यक्ष के साथ तमाम देशों के दिल्ली में मौजूद राजदूतों व उच्चायुक्तों (Guest List for Swearing-In Ceremony) को भी आमंत्रित किया गया है. इसमें समाज के बुद्धिजीवि, राजनीतिक कार्यकर्ता, फिल्म स्टार्स और सेलिब्रेटी भी शामिल होंगे. इसके लिए सभी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय पार्टियों के प्रमुखों को भी आमंत्रित किया गया है.

ये रहेगा मेन्यू
इस साल का समारोह (PM Modi Swearing-In Ceremony) काफी हद तक 2014 जैसा ही होगा. अतिथियों के बैठने का इंतजाम सीढ़ीनुमा होगा जिससे कि सभी को शपथ ग्रहण ठीक से दिख सके. राष्ट्रपति भवन की ओर से अतिथियों को शाम में चाय परोसने के बाद भोजन करवाया जाएगा. भोजन में नॉन-वेज और वेज दोनों तरह की थालियां होंगी. स्वीट्स में राजभोग और नमकीन में समोसा होगा. इसके अलावा लेमन टार्ट भी परोसा जाएगा. इस पूरे डिनर में सबसे खास होगी ‘दाल रायसीना’. इसे अभी से पकाया जाने लगा है. राष्ट्रपति भवन के किचन की सबसे स्पेशल चीज है जिसे बनने में 48 घंटे लगते हैं.