वर्तमान दौर में अपराध के तौर तरीके बदल रहे हैं और युवा आसानी से अपराधियों के जाल में फंस जाते हैं. युवाओं को इन अपराधियों के जाल में फंसने से कैसे बचाया जाए इसके लिए मध्य प्रदेश के बैतूल जिले की पुलिस ने अनोखी पहल की है. पुलिस ने एक कहानियों की पुस्तक जारी है, जिसमें कॉमिक्स के अंदाज मे बताया गया है कि अपराधी लोगों को अपने जाल में कैसे फंसाते है और उससे कैसे बचा जा सकता है. Also Read - मध्य प्रदेश: उज्जैन में जहरीली शराब से 11 लोगों की मौत, 5 पुलिसकर्मी निलंबित

बैतूल की पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद का कहना है कि वर्तमान दौर में युवा सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हैं. कोरोना के दौर में यह वर्ग सोशल मीडिया का उपयोग कुछ ज्यादा ही कर रहा है. अपराधी भी इस माध्यम का भरपूर उपयोग करते हैं. यह देखा गया है कि युवा, किशोर इन अपराधियों की मानसिकता और साजिश से अंजान रहते हैं, परिणामस्वरुप वे अपराधियों के जाल में फंस जाते हैं. Also Read - नाथूराम गोडसे की प्रतिमा पुलिस ने की जब्त तो सड़क पर उतरे हिंदू महासभा के कार्यकर्ता, बोले- घर में प्रतिमा लगाना अधिकार

उन्होंने बताया कि पुलिस लोगों के बीच जाकर जन-जागृति अभियान चलाती रहती है मगर कोरोना के कारण लोगों के बीच पुलिस नहीं पहुंच पा रही है. इन स्थितियों में पुलिस ने युवाओं, किशोरों में जागृति लाने के लिए कहानियों का सहारा लिया है. पुस्तक में कहानियों को कॉमिक्स के तरीके से तैयार किया गया है, जो पढ़ने में रोचक है और अपराधों से कैसे बचें यह संदेश भी दे रही है. Also Read - MP में गैंगरेप पीड़िता की रिपोर्ट दर्ज नहीं करने पर पुलिसकर्मी अरेस्‍ट, महिला ने कर ली थी खुदकुशी

आमतौर पर देखा गया है कि मोबाइल रीचार्ज कराने वाली दुकान पर युवतियां व किशोर अपनी सारी जानकारी देते हैं और वहां से उनकी समस्त जानकारी अपराधी किस्म के लोगों तक पहुंच जाती है और इन जानकारियों के जरिए ये युवतियों को अपना शिकार बना लेते हैं. उनकी तस्वीरों का गलत तरीके से उपयोग कर लेते हैं.

पुलिस का अनुभव है कि सिर्फ युवतियां ही नहीं किशोर भी इन अपराधियों का शिकार बनते हैं. इसी को ध्यान में रखकर यह कहानी की पुस्तक तैयार की गई है.

बताया गया है कि इस पुस्तक में साइबर अपराधों से कैसे बचें, मोबाइल रिचार्ज शॉप, डेबिट कार्ड का क्लोन बनाना, एसएमएस द्वारा धोखाधड़ी, कॉल द्वारा ठगी, फिरौती वाला वायरस, इंटरनेट पर पीछा करना, तस्वीर से छेड़छाड़, प्रोफाइल हैक करना, ऑनलाइन गेम्स, नौकरी का लालच देकर किस तरह ठगी की जाती है, ये सब रोचक तरीके से कहानियों में बताया गया है.

इसके साथ ही पुस्तक की कहानियां यह भी बताती हैं कि, ऑनलाइन डेटिंग वेबसाइट, मोबाइल कैमरा हैकिंग, सोशल ट्रोल, फर्जी स्कीम, नकली मेट्रिमोनियल प्रोफाइल, सेक्स उत्पीड़न के लिए अपराधी नकली प्रोफोइल कैसे बनाते हैं. इसके अलावा इन कहानियों के जरिए यह भी बताया गया है कि अगर कोई उनके साथ ठगी कर रहा है तो शिकायत किस तरह से की जाए.
(एजेंसी से इनपुट)