Rakhi 2020: वाराणसी की महिला कारीगरों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गलवान घाटी में तैनात सैनिकों के लिए लकड़ी की राखियां भेजी हैं. राखियों को वाराणसी में प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय को सौंप दिया गया है. Also Read - कल अयोध्या में दोपहर 12.30 बजे भूमि पूजन करेंगे पीएम मोदी, जानिए क्या है पूरा कार्यक्रम

महिला शिल्पकार शालिनी, वंदना, रीता, पुष्पा और सितम ने मोदी को एक पत्र भी भेजा है, जिसमें उनसे अनुरोध किया गया है कि वे सुनिश्चित करें कि राखी गलवान घाटी में सैनिकों तक पहुंचे. Also Read - राहुल गांधी ने कहा- अर्थव्यवस्था में लोगों का विश्वास नहीं रहा, PM मोदी में मुश्किल से निपटने की योग्यता नहीं

गिफ्ट पैकेट में लकड़ी के लाह और खिलौने भी शामिल हैं. Also Read - गुलाबी रंग के दुपट्टे में एक खूबसूरत शाम सी लगीं हिना खान, नब्ज़ में मिश्री सी घुल गई!

जियोग्राफिकल इंडिकेशन (जीआई) विशेषज्ञ रजनी कांत ने महिलाओं को लकड़ी की राखियां बनाने में मदद की है. उन्होंने कहा कि ये राखियां एक सप्ताह पहले बनानी शुरू की थीं.

शालिनी ने कहा, “यह हमारी ओर से प्रधानमंत्री और हमारी सुरक्षा के लिए लड़ने वाले सैनिकों के लिए प्यार और विनम्र भाव हैं.”

उन्होंने बताया कि कोरोनावायरस महामारी के बीच, वाराणसी की महिला कारीगरों को जीआई टैग की गई लकड़ी से लगभग 50 हजार राखियां बनाने का रोजगार का अवसर मिला है.