School Reopening: कोरोना महामारी के बीच हर किसी के मन में एक ही सवाल है कि स्कूल-कॉलेज कब खुलेंगे. अगर खुलेंगे तो क्या बच्चों को भेजना सुरक्षित रहेगा? लंबे समय से इस पर बहस चल रही है. केंद्र व राज्य सरकारें भी इसी उधेड़बुन में हैं. Also Read - कार्यस्थल पर कैसे करें कोरोना से सुरक्षा? भारत सरकार ने जारी किए दिशा-निर्देश

दरअसल, इसके पीछे वजह यही है कि स्कूल में बच्चों को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों में बांधना काफी मुश्किल काम होगा. साथ ही बच्चों को लेकर कोई भी माता-पिता किसी तरह का खतरा मोल नहीं लेना चाहता. पर इस विषय पर दुनिया भर में क्या हो रहा है, हम बताते हैं. Also Read - United Nations On Coronavirus Death: कोरोना से हो रही मौतों पर संयुक्त राष्ट्र ने जताई चिंता, आया यह बयान

बात करते हैं पड़ोसी देश चीन की. जहां सबसे पहले इस वायरस ने दस्तक की, जहां से ये पूरी दुनिया में फैला. आपको जानकर हैरानी होगी कि यहां स्कूल खुल चुके हैं. Also Read - Wuhan Coronavirus News: जहां से शुरू हुआ कोरोना का कहर, जानें अब Wuhan की कैसी है स्थिति?

यहां वायरस का संक्रमण न हो, इसके लिए स्कूलों में खास इंतजाम किए गए हैं. स्कूलों में हर रोज विभिन्न स्थानों पर छात्रों के तापमान की जांच करने के अलावा हेल्थकोड भी चेक किया जाता है. इसके साथ ही छात्रों के स्वास्थ्य स्थिति की रिपोर्ट भी बनायी जाती है. जबकि सार्वजनिक क्षेत्रों को बार-बार कीटाणुशोधन किया जाता है. इसके अलावा स्कूलों में छात्रों, शिक्षकों समेत सभी कर्मचारियों को मास्क पहनने होते हैं.

संगीत, चित्रकला और विज्ञान की कक्षाओं को खुली जगहों पर लगाया जा रहा है. क्लास के शेड्यूल को फिर से डिजाइन किया गया है ताकि प्रत्येक 40 मिनट की इनडोर कक्षा में कम से कम 20 मिनट का ब्रेक और एक आउटडोर क्लास हो.
(एजेंसी से इनपुट)