शाहजहांपुर: जिले के एक मुस्लिम परिवार ने बेटी की शादी के लिए दिए जाने वाले निमंत्रण पत्र पर भगवान राम सीता के स्वयंवर का फोटो छपवा कर हिंदू-मुस्लिम एकता की अनूठी मिसाल पेश की है.

अल्लाहगंज थानाक्षेत्र के चिलौआ गांव में रहने वाले इबारत अली की बेटी की 30 अप्रैल को अल्लाहगंज निवासी सोनू के बेटे के साथ शादी होनी है. इबारत अली ने बेटी की शादी में न्यौता देने के लिए निमंत्रण पत्र में मक्का मदीना या मुस्लिम धर्म के फोटो ना छपवा कर भगवान राम और सीता के स्वयंबर की फोटो छपवाई है.

मिसाल: मुस्लिम महिला, जिन्होंने उर्दू में लिखी रामायण, कहा- हम सभी धर्मों की इज्जत करें

अली ने सोमवार को बताया कि चिलौआ गांव में 1800 की हिन्दू आबादी है. गांव में अकेले उनका ही मुस्लिम परिवार रहता है परंतु ‘‘हिंदुओं ने हमें कभी भी एहसास नहीं होने दिया कि हम मुस्लिम हैं.’’

उन्होंने बताया कि वह हिन्दू—मुस्लिम दोनों धर्मों को मानने वाले व्यक्ति हैं इसीलिए गांव के प्रसिद्ध देवी मंदिर में उन्होंने सबसे पहले अपनी बेटी का निमंत्रण पत्र चिलौआ देवी माता को अर्पित किया है.