नई दिल्ली: अक्सर सुना और देखा जाता है कि जिन बच्चों को पालने और उन्हें बड़ा करने में मां बाप पूरी जिंदगी खपा देते हैं वही परिवार के लोग बुढ़ापे में उनका साथ छोड़ देते हैं. अगर परिवार का सहारा नहीं मिलता को बुढ़ापे की जिंदगी काटना बहुत मुश्किल हो जाता है. बुजुर्ग लोगों के लिए जिंदगी में दो चीजे बहुत ज्यादा मायने रखती है. एक तो अपने परिवार का प्यार और दूसरे चलने और सहारे के लिए लाठी. लेकिन जब परिवार दरकिनार देता है तो लाठी ही बचती है जिंदगी चलाने के लिए. इन दिनों सोशल मीडिया में एक वीडियो खूब जोरो से वायरल हो रहा है जिसमें एक 85 साल की महिला लाठी से मार्शल आर्ट के करतब दिखा रही है. उनके स्टंट को देखकर पूरी दुनिया हैरान है.

पुणे की रहने वाली शांताबाई अपनी जब इन दिनों आराम करना चाहिए तब वो इस कोरोना वायरस और लॉकडाउन के बावजूद गलियों गलियों में घूमकर स्टंट दिखा रही हैं. ऐसा लगता है कि बूढ़ी माता जी के पास अब जीवन चलाने के लिए और कुछ ऑप्शन नहीं बचा है.

बूढ़ी दादी के स्टंट देखकर लोग उनके जज्बे और उनकी कला की जमकर तारीफ कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि आज की युवा पीढ़ी को दादी से सीख लेना चाहिए. शांताबाई से जब उनके मार्शल आर्ट की कला के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वह आठ साल की उम्र से यह सब सीख रही हैं और उन्हें यह सब उनके पिता ने सिखाया है.

सड़कों पर स्टंट करने वाली दादी का विडियो वायरल होते ही एक्टर सोनू सूद और रितेश देशमुख उनकी मदद के लिए आगे हैं. वहीं दादी ने सोनू सूद के साथ मिलकर मार्शल आर्ट की कला को आगे बढ़ाने के लिए स्कूल खोलने की इच्छा जताई है.