नई दिल्ली. समंदर में जहां बड़ी तादाद में खतरनाक शार्क मछलियां पाई जाती हों, वहां पर तैरना या अंडर-वाटर फोटो-शूट करना कितना खतरनाक और जानलेवा हो सकता है, इसका एक उदाहरण बहामास में देखने को मिला है. बहामास में नर्सिंग की स्टूडेंट और इंस्टाग्राम मॉडल कैटरीना एल जरुत्सकी ने यह खतरा मोल लिया और इसका उसे खामियाजा भुगतना पड़ा. खतरनाक शार्क मछलियों से सावधान रहने के चेतावनी के बावजूद कैटरीना ने यह खतरा मोल लिया और तैराकी के दौरान एक शार्क ने उसके हाथ में काट लिया. उस समय कैटरीना के ब्वॉयफ्रेंड का पिता फोटो-शूट कर रहा था. शार्क के हमले के बाद कैटरीना किसी तरह बचकर बाहर आई तब उसके ब्वॉयफ्रेंड के पिता ने देखा और उसे बचाया गया.

फोटो साभारः इंस्टाग्राम कैटरीना एल जेरुत्सकी.

फोटो साभारः इंस्टाग्राम कैटरीना एल जेरुत्सकी.

 

छुट्टियां मनाने गई थी कैटरीना
कैलिफोर्निया की रहने वाली कैटरीना अपने ब्वॉयफ्रेंड के परिवार के साथ बहामास के स्टेनियल केय में छुट्टियां मनाने गई थी. इसी दौरान उसे पता चला कि इस इलाके में शार्क के साथ समंदर में तैरने का मजा लिया जा सकता है. बस फिर क्या था, वह स्वीम-शूट (बिकनी) पहनकर समंदर में उतर गई. कैटरीना ने तैराकी की जो जगह चुनी थी, वहां पर बड़ी तादाद में खतरनाक शार्क मछलियां रहती हैं. साथ ही शार्क मछलियों से खतरा होने का बोर्ड भी लगाया गया था. लेकिन मस्ती के मूड में कैटरीना को यह बोर्ड नहीं दिखा और वह पानी में उतर गई. एनबीसी को दिए अपने इंटरव्यू में कैटरीना ने बताया कि वह शार्क मछलियों के साथ तैरने का आनंद उठाना चाहती थी, लेकिन दुर्भाग्य से 5 फुट लंबी एक शार्क ने उसका हाथ काट खाया. डॉक्टरों के अनुसार शार्क के काटने से मानव शरीर में तेजी से इंफेक्शन फैलता है. कैटरीना ने बताया कि मैं भाग्यशाली हूं कि मेरा हाथ सलामत है और शार्क के काटने से कोई इंफेक्शन भी नहीं फैला. मेरी जिंदगी बच गई.

शार्क के जबड़े से खींचा हाथ और आई ऊपर
कैटरीना ने एनबीसी के साथ बातचीत में बताया कि शार्क मछली ने उसके हाथ में अपने दांत घुसा दिए थे. कैटरीना के अनुसार, ‘मेरी हथेलियां शार्क के मुंह में थी. उसके दांत मुझे चुभ रहे थे.’ उसने बताया, ‘मैं अपना हाथ उससे छुड़ाना चाह रही थी, लेकिन शार्क की पकड़ मजबूत थी और वह मुझे गहरे पानी में खींच रही थी. लेकिन इसी वक्त तैराकी का अनुभव मेरे काम आया और मैं किसी तरह उसके जबड़े से अपना हाथ छुड़ाकर तेजी से तैरती हुई ऊपर चली आई.’ कैटरीना ने बताया कि शार्क से बचकर पानी के ऊपर आते वक्त उसके हाथ से खून बह रहा था. उसने अपने हाथ को दूसरे हाथ से दबा रखा था, क्योंकि अगर खून पानी में फैल जाता तो दूसरी शार्क मछलियों को इसकी गंध लग जाती और वे भी कैटरीना पर हमला कर सकती थीं. पानी से निकलने के बाद उसे तुरंत डॉक्टर के पास ले जाया गया, जहां उसका इलाज हुआ. इलाज के बाद कैटरीना ने कहा कि शार्क के हमले के बाद भी उसकी जान बच जाना उसका सौभाग्य है.