नई दिल्ली: यदि कहा जाए कि आप अब अपने फोन से न केवल बातचीत बल्कि दूध में मिलावट का भी पता लगा सकते हैं तो आप हैरत में पड़ जाएंगे. लेकिन यह सच है. स्‍मार्ट फोन की मदद से वास्‍तव में दूध की मिलावट का पता लगाया जा सकता है. हैदराबाद में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के अनुसंधानकर्ताओं ने स्मार्टफोन आधारित ऐसी प्रणाली विकसित की है. Also Read - भारतीय वैज्ञानिकों का 'देसी' कमाल, मात्र 7 हज़ार में बनाया वेंटिलेटर का काम करने वाला डिवाइस

यह प्रणाली एक संकेतक कागज का इस्तेमाल करके दूध में अम्लता का पता लगाती है जो एसिडिटी (अम्लता) के अनुसार रंग बदलता है. उन्होंने अल्गोरिद्म भी विकसित किया है जिसे स्मार्टफोन से जोड़कर रंग में बदलाव का सही-सही विश्लेषण किया जा सकता है. Also Read - पिछले 5 सालों में 7,248 छात्रों ने छोड़ी आईआईटी की पढ़ाई, वजह कर देगी हैरान

मिक्की माउस के 90वें जन्मदिन पर आयोजित होगी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी, दो महीने तक चलेगी Also Read - पिछले पांच साल में 27 आईआईटी विद्यार्थियों ने की खुदकुशी, IIT मद्रास के सबसे ज्यादा छात्र

अनुसंधान दल की अगुवाई कर रहे आईआईटी के प्रोफेसर शिव गोविंद सिंह ने कहा, ‘‘दूध में मिलावट का पता लगाने के लिए क्रोमेटोग्राफी और स्पेक्ट्रोस्कोपी जैसी तकनीकों का इस्तेमाल किया जा सकता है. लेकिन इस तरह की तकनीकों के लिए सामान्य रूप से व्यापक व्यवस्था जरूरी होती है और इनमें कम कीमत की आसानी से उपयोग वाले उपकरणों का इस्तेमाल व्यावहारिक नहीं है.’’

भारत की डिजिटल क्रांति से अछूता है पाकिस्‍तान, दो-तिहाई से ज्‍यादा आबादी नहीं जानती इंटरनेट क्‍या है

उन्होंने कहा, ‘‘हमें सामान्य उपकरण विकसित करने होंगे जिनका इस्तेमाल ग्राहक दूध में मिलावट का पता लगाने के लिए कर सकें. महंगे उपकरणों की जरूरत के बिना उसी समय इन सभी मानकों पर निगरानी रखके दूध में मिलावट का पता लगाने के तरीके को सुरक्षित बनाया जाना चाहिए.’’ पहले अनुसंधान दल ने पीएच स्तर को मापने के लिए एक सेंसर-चिप आधारित तरीका विकसित किया था.