बारिश के मौसम में घरों की साफ-सफाई करना, खासकर किचेन को क्लीन रखना चुनौती भरा काम है. और ऐसे में अगर चींटियों ने आपके किचेन को अपना ठिकाना बना लिया, तब तो समझिए मुसीबत और ज्यादा बड़ी है. बारिश के बाद आपने अक्सर घर की दीवारों या किचेन में चींटियों की लंबी-लंबी कतारें देखी होंगी. चींटियां नमी वाली जगहों पर सबसे पहले ‘हमला’ करती हैं. इसके अलावा चीनी के डब्बों या शहद की बोतलों तक अपनी पहुंच बनाना भी चींटियों के लिए आसान काम है. ये चींटियां लकड़ी के दरवाजों, टेबल-ड्रॉअर/कैबिनेट या दीवारों में पड़ी दरारों में अपना घर (घोसला) बना लेती हैं. हाउसवाइफ्स के लिए इन चींटियों को किचेन या घर से दूर रखना बहुत जरूरी हो जाता है. आइए आज जानते हैं कि कैसे हम अपने घर और किचेन से चींटियों को दूर रख सकते हैं. Also Read - Home Remedies For Ants: घर पर चींटियों से हो गई हैं परेशान, तो अपनाएं ये घरेलू उपाए और पाएं छुटकारा

Also Read - Kitchen Cleaning Tips: घर के किचन की ऐसे करें सफाई, इन आसान उपायों की लें मदद किटाणु रहेंगे दूर

यह भी पढ़ें – बिल्ली को खीरे से क्यों लगता है डर? बार-बार देखा जा रहा है ये वीडियो Also Read - Home Remedies: घर में चींटियों के आतंक से हो गए हैं परेशान तो अपनाएं ये नुस्खे, चुटकियों में जाएंगी भाग

चींटियों को पहचान कर उनका काम तमाम करें

घर से चींटी भगाना, ये काम सुनने में आपको भले आसान लगे, लेकिन ऐसा है नहीं. क्योंकि झाड़ू या फिनाइल से पोछा लगा देने के बाद भी चींटियां अपना ठिकाना नहीं छोड़ती हैं. इसके लिए सबसे पहले आपको चींटियों की पहचान करनी होगी. जी हां, चींटियों को पहचान कर उन्हें ‘निपटाना’ पड़ेगा. दरअसल, घरों या किचन में आमतौर पर दिखने वाली चींटियां 3 तरह की होती हैं. कारपेंटर, वर्कर और रिप्रोडक्टिव यानी प्रजनन क्षमता वाली चींटी. कारपेंटर एंट्स के 6 पैर होते हैं और पूरा शरीर 3 भागों में बंटा होता है. साथ ही इनमें ‘एंटेना’ भी होता है. दूसरे नंबर पर वर्कर एंट्स होती हैं, जिनमें पंख नहीं होते. वहीं प्रजनन क्षमता वाली चींटियों में पंख पाए जाते हैं. इन्हें ही आप लंबी-लंबी कतारों में चलते हुए देखते हैं. इन चींटियों को पहचानने के बाद ही आप इनका सफाया कर सकते हैं.

पेट में कैंसर बनने से रोकती है हल्दी, JNU की स्टडी में चौंकाने वाले फायदे…

सबसे पहले घोसले पर करें वार

चींटियां आपके घर के दरवाजों, दीवारों की दरार, कैबिनेट या ड्रॉअर, बीम्स और लकड़ी के सामान में बने होल्स में अपना घर बनाती हैं. आपको सबसे इन पर ध्यान देना होगा. लकड़ी के सामान में जहां नमी (Moisture) मिलेगी, चींटियां वहीं पर अपना घोसला बनाना पसंद करती हैं. इसलिए सबसे पहले इन स्थानों के आसपास चींटियों को लुभाने के लिए आपको शहद, चीनी या दूध जैसा पदार्थ रखना होगा, ताकि चींटियां भोजन को ओर आ सके. आप देखेंगे कि कुछ ही देर में चींटियां आने लगेंगी. चींटियों को खत्म करने के लिए आप शहद या चीनी में कम मात्रा में कोई विषाक्त पदार्थ मिला दें. चींटियों को खत्म करने के लिए आप बोरिक एसिड पाउडर का इस्तेमाल कर सकते हैं. शहद या चीनी में इसकी मात्रा कम इसलिए रखनी है, ताकि चींटियां इसे लेकर घोसले तक जा सके. एक बार अगर चींटियों ने यह विषैला पदार्थ अपने घोसले तक पहुंचा दिया तो समझिए चींटियों का कुनबा खत्म करने में आपको सफलता मिल जाएगी.

मॉनसून में पेट खराब से परेशान हैं तो ट्राई करें ये डिश, यकीनन मिलेगा आराम

मॉनसून में पेट खराब से परेशान हैं तो ट्राई करें ये डिश, यकीनन मिलेगा आराम

चींटियां दोबारा लौटकर न आएं, इसका भी रखें ख्याल

यह मत समझिए कि एक बार सफाया करने के बाद चींटियां दोबारा आपके घर को ‘अपना’ नहीं समझेंगी. वे दोबारा भी लौटकर आ सकती हैं. वे दोबार से आपके घर पर धावा न बोलें, इसके लिए आपको कुछ और इंतजाम भी करने होंगे. आप घरों की दीवारों में पड़ी दरार, लकड़ी के ड्रॉअर या कैबिनेट के होल्स को बंद कर दें. लकड़ी के सामान में पड़ी दरार को ठीक करा लें. खिड़कियों के आसपास शीशे लगवा लें. गार्डन में पड़ी पानी की बेकार पाइप आदि की सावधानी से सफाई करें. इतना सारा कुछ आपको करना पड़ेगा, तभी चींटियों के दोबारा लौटकर आने का ‘खतरा’ नहीं रहेगा.

ऐसी रोचक खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com