Teacher Got 1 Cr Salary: उत्तर प्रदेश में एक ऐसा मामला सामने आया है, जो आपको हैरान कर देगा. यहां एक सरकारी टीचर ने एक साल में 1 करोड़ सैलरी हासिल कर ली. अब लोग ये समझ नहीं पा रहे कि ऐसा मुमकिन कैसे हो गया. आप भी इस उधेड़बुन में हैं तो हम आपको पूरी खबर बताते हैं. Also Read - 125 Crore Rupees Teacher salary case: 'अनामिका शुक्ला' मामले में आया राजनीतिक मोड़, भाजपा सांसद ने उच्चस्तरीय जांच की मांग की

दरअसल, यूपी में अनामिका शुक्ला नाम की टीचर एक साथ 25 स्कूलों में काम कर रही थीं. वो भी महीनों से. इन स्कूलों से उन्हें 1 करोड़ की सैलरी मिली. हालांकि यह असंभव लग सकता है लेकिन सच है.

Face Mask During Sex: हार्वर्ड की सलाह, कोरोना से बचना है तो सेक्स के दौरान पहनें फेस मास्क!

खबर के मुताबिक, अनामिका शुक्ला कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय (केजीबीवी) में कार्यरत पूर्णकालिक विज्ञान शिक्षिका हैं. इसके अलावा वे अंबेडकर नगर, बागपत, अलीगढ़, सहारनपुर और प्रयागराज जैसे जिलों के कई स्कूलों में एक साथ काम कर रही थीं. मामला तब सामने आया जब शिक्षकों का एक डेटाबेस बनाया जा रहा था.

मानव सेवा पोर्टल पर शिक्षकों के डिजिटल डेटाबेस में शिक्षकों के व्यक्तिगत रिकॉर्ड, जुड़ने और पदोन्नति की तारीख की आवश्यकता होती है.

एक बार रिकॉर्ड अपलोड होने के बाद, यह पाया गया कि अनामिका शुक्ला, एक ही व्यक्तिगत विवरण के साथ 25 स्कूलों में सूचीबद्ध थीं.

स्कूल शिक्षा के महानिदेशक, विजय किरण आनंद ने कहा कि इस शिक्षक के बारे में तथ्यों का पता लगाने के लिए एक जांच चल रही है, शिक्षिका संपर्क में नहीं है.

उन्होंने कहा, “यह आश्चर्यजनक है कि शिक्षिका अनामिका शुक्ला उप्र के प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्थिति की वास्तविक समय पर निगरानी किए जाने के बावजूद ऐसा कर पाईं.”

मार्च में इस शिक्षिका के बारे में शिकायत प्राप्त करने वाले एक अधिकारी ने कहा, “एक शिक्षक अपनी उपस्थिति को कई जगह कैसे चिह्न्ति कर सकता है, जबकि उन्हें प्रेरणा पोर्टल पर ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज करनी होती है?”

सभी स्कूलों में रिकॉर्ड के अनुसार, शुक्ला एक साल से अधिक समय तक इन स्कूलों के रोल पर थीं.

IRCTC Shramik Trains: स्टेशन देर से पहुंचे मजदूर तो दौड़ी मुंबई पुलिस, रुकवाई चलती ट्रेन, आंखों में आंसू, बजी तालियां, देखें Video

केजीबीवी कमजोर वर्गों की लड़कियों के लिए चलाया जाने वाला एक आवासीय विद्यालय है, जहां शिक्षकों को अनुबंध पर नियुक्त किया जाता है. उन्हें प्रति माह लगभग 30,000 रुपये का भुगतान किया जाता है. जिले के प्रत्येक ब्लॉक में एक कस्तूरबा गांधी स्कूल है. अनामिका ने इन स्कूलों से वेतन के रूप में फरवरी 2020 तक (13 महीनों में) एक करोड़ रुपए लिए हैं.

मैनपुरी की रहने वाली अनामिका शुक्ला को आखिरी बार फरवरी तक रायबरेली के केजीबीवी में काम करते हुए पाया गया था, जब उनका फजीर्वाड़ा सामने आया था.

रायबरेली में बेसिक शिक्षा अधिकारी आनंद प्रकाश ने कहा कि सर्व शिक्षा अभियान कार्यालय ने अनामिका शुक्ला नामक एक शिक्षिका के बारे में जांच करने के लिए छह जिलों को एक पत्र जारी किया था.

उन्होंने कहा, “हालांकि रायबरेली का नाम सूची में नहीं था, हमने क्रॉस चेक किया और महिला को जब हमारे केजीबीवी में भी काम करते हुए पाया तो उन्हें नोटिस जारी किया गया था. लेकिन उन्होंने वापस रिपोर्ट नहीं की और उनका वेतन तुरंत रोक दिया गया.”

भाई छोटी बहन संग कर रहा था ‘छेड़छाड़’, बहन ने गुस्से में दरांती से काट डाला…

उन्होंने आगे कहा कि लॉकडाउन के कारण जांच आगे नहीं बढ़ सकी लेकिन अब रिकॉर्ड का सत्यापन किया जाएगा. यह पता लगाना अभी बाकी है कि शुक्ला अलग-अलग स्कूलों के वेतन के लिए एक ही बैंक खाते का इस्तेमाल कर रही थीं या नहीं.

हालांकि उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से इस पर कोई बयान अभी तक नहीं आया है.
(एजेंसी से इनपुट)