नई दिल्ली: टेलीकॉम सेक्टर में जहां पिछले दिनों कई लोगों की नौकरियां गई हैं, वहीं इस सेक्टर में आने वाले पांच सालों में करीब 1 करोड़ नौकरियां निकलने वाली हैं. ये बात टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल की रिपोर्ट में कही गई है. टेलिकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल के सीईओ एसपी कोच्चर ने न्यूज एजेंसी को बताया कि अभी टेलिकॉम सेक्टर में करीब 40 लाख लोग नौकरी कर रहे हैं. वहीं, अगले 5 साल में यह संख्या बढ़कर 1.43 करोड़ हो जाएगी. यानी 5 साल में करीब 1 करोड़ नौकरियां और बढ़ जाएंगी. Also Read - यूपी में 45,000 करोड़ के बंपर निवेश का रास्ता हुआ साफ, 1 लाख से अधिक लोगों को मिलेगा रोजगार

रोजगार की मुख्य मांग इन क्षेत्रों में  Also Read - SBI job opening: स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में निकली बंपर भर्तियां, अधिकारी रैंक पर होगी पोस्टिंग, ऐसे करें आवेदन

कोच्चर के अनुसार के अनुसार नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन के तहत आने वाले दिनों में जॉब की डिमांड बढ़ेगी. खासतौर से इमर्जिंग टेक्नोलॉजी मसलन मशीन टु मशीन कम्युनिकेशंस, टेलिकॉम मैन्युफैक्चरिंग, इंफ्रा और सर्विसेज से डिमांड बढ़ेगी. आने वाले दिनों में देश में मैन्युफैक्चरिंग एक्टिविटी बढ़ने का अनुमान है, जिसका सबसे ज्यादा फायदा जिन सेक्टर को मिलेगा, उनमें टेलिकॉम सेक्टर भी शामिल है. कोच्चर का कहना है कि मैन्युफैक्चरिगं की बात करें तो टेलिकॉम सेक्टर में पोटेंशियल बहुत ज्यादा है. Also Read - प्रवासियों के रोजगार मामले पर योगी आदित्यनाथ का यू-टर्न, अब राज्य सरकार से नहीं लेनी होगी अनुमति

कोचर ने कहा, हम भारत में विनिर्माण संयंत्रों के आने में वृद्धि देख रहे हैं. इससे जहां तक कौशल का सवाल है, दूरसंचार क्षेत्र के लिए हमें उम्मीद मिलती है. हमें यहां काफी उम्मीद हैं और दूरसंचार विनिर्माण उद्योग का अनुमान है कि इसमें लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा. दूरसंचार क्षेत्र की इस कौशल संस्था ने सरकार के समक्ष प्रस्ताव रखा है कि उसे रोजगार के मामले में रुख में बदलाव लाना चाहिये और उद्योगों की मांग के आधार पर रोजगार के लिये प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाये जाने चाहिये.

इंडस्ट्री में फिलहाल नौकरी का संकट 

प्राइसिंग वार के चलते कंपनियों का मुनाफा घट गया है, जिससे इंडस्ट्री में हजारों नौकरियां जा चुकी हैं, वहीं आगे भी 80 से 90 हजार नौकरियों पर संकट बना हुआ है. CIEL HR सर्विसेज द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल टेलीकॉम इंउस्ट्री से जुड़े 40 हजार लोग बेरोजगार हो चुके हैं. वहीं, रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अगले 5-6 महीने में बड़े पैमाने पर छंटनी हो सकती है. कुल 80-90 हजार लोग बेरोजगार हो सकते हैं। हालांकि इस बीच यह नई रिपोर्ट सेक्टर के लिए राहत की खबर है.