नई दिल्लीः 2009 में एक हॉलीवुड मूवी रीलीज हुई थी ‘ऑर्फन’. इस मूवी में दिखाया गया था कि एक कपल अनजाने में एक ऐसी लड़की को गोद ले आता है जो कि देखने में तो बच्ची लगती है, लेकिन सच्चाई इसके विपरीत थी. वह बच्ची न हो कर एक बड़ी लड़की थी. अब एक ऐसी खबर सामने आई है जिसमें यह कहानी सच में बदलती साबित होती दिखी है. डेली मेल की एक खबर के अनुसार एक कपल ने एक बच्ची को गोद लिया था लेकिन वह बच्ची न होकर एक बड़ी लड़की थी.

काला हिरण मामला: जान से मारने की धमकी के बीच जोधपुर कोर्ट में कल पेश हो सकते हैं सलमान

खबर के अनुसार क्रिस्टीन बॉर्नेट और उनके पति माइकल बॉर्नेट ने 2010 में एक बच्ची नतालिया को गोद लिया था. युगल ने बताया कि एडॉप्शन के समय उन्हें बताया गया था कि बच्ची 6 साल की है लेकिन सच्चाई कुछ और ही थी. वह 22 साल की एक वयस्क लड़की थी. वह वयस्कों की तरह व्यवहार करती थी. इस कारण दंपति ने नतालिया को परिवार से बाहर कर दिया. लेकिन इसके बाद यह दंपति कानूनी झंझट में फंस गया. इस पूरे मामले का खुलासा तब हुआ जब कपल के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी हुआ और उन्होंने आत्मसमर्पण किया.

जब पुलिस ने उनसे सवाल किया तो उन्होंने कई आश्चर्यजनक खुलासे किए जिनपर किसी के लिए भी विश्वास कर पाना मुश्किल है. उन्होंने बताया कि नतालिया वास्तव में एक बच्ची नहीं है. वह केवल कद काठी से छोटी है. नतालिया को छोड़ने की बात पर उन्होंने कहा कि गोद लेने के कुछ ही दिनों के भीतर उसका व्यवहार बदल गया. बार्नेट ने बताया कि उन्हें उसके बच्ची न होने पर पहली बार शक तब हुआ जब वह समुद्र किनारे दौड़ रही थी. युगल का कहना था कि जब उन्होंने उसे गोद लिया था तब कहा गया था कि वह ठीक से चल नहीं पाती, फिर वह दौड़ कैसे रही थी.

ब्यूरोक्रेसी का अनोखा चेहरा बने IAS राम सिंह, सब्जी खरीदने 10KM जाते हैं पैदल, सादगी के फैन हुए लोग

क्रिस्टीन बॉर्नेट ने कहा कि उनका शक तब पूरी तरह से सच में बदल गया जब वह उसे नहला रहीं थीं. उन्होंने देखा कि वह उसके गुप्तांगों में बाल थे और उसे मासिक धर्म भी आ रहे थे जो एक बच्ची के साथ होना नामुमकिन था. कपल ने कहा कि नतालिया ने एक साल के अंदर ही हमें मारने का प्रयास भी प्रयास किया. क्रिस्टीन ने दावा किया कि नतालिया ने उनके पति को सोते वक्त मारने की कोशिश की और उनकी काफी में ब्लीच भी मिलाया. उन्होंने कहा कि नतालिया ने उन्हें बिजली के तारों में भी धकेलने का प्रयास किया.

उन्होंने कहा कि नतालिया ने कई बार हमारे दूसरे बच्चों को भी मारने की कोशिश की. क्रिस्टीन ने कहा कि हमने उसके इलाज के लिए डॉक्टर्स को भी बुलाया और उसकी जांच भी कराई. डॉक्टर्स ने इस बात को कनफर्म किया कि वह बच्ची नहीं है. फिलहाल अभी क्रिस्टीन बर्नेट और माइकल बर्नेट को जमानत पर रिहा कर दिया गया है. Tippecanoe काउंटी शेरिफ विभाग ने उन पर आरोप लगाया था कि वे एक बच्ची को घर में बंद करके विदेश चले गए थे. खबर के मुताबिक इस मामले में 2012 में, इंडियानापोलिस में मैरियन काउंटी सुपीरियर कोर्ट ने भी इस बात की पुष्टि की है कि नतालिया का जन्म 1989 में हुआ था.