उत्तर प्रदेश: आपने साधु-संतों को कठिन से कठिन तपस्या करते हुए देखा होगा. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे बाबा के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका ओढ़ना-बिछौना ही काटे हैं. कांटों की शैय्या पर लेटे इस बाबा को जो भी देखता है उसके मुंह से आह शब्द निकल जाता है. कांटों पर सोने की सिद्धि प्राप्त कर चुके बाबा को अब लोग कांटे वाले बाबा के नाम से जानने लगे हैं. बाबा बिलासपुर के रहने वाले हैं. Also Read - 24 KM साइकिल चलाकर स्कूल जाने वाली रोशनी को बड़ी सफलता, 10वीं में मिले 98.5 प्रतिशत मार्क्स, मेरिट में जगह

बाबा लक्ष्मण राम ने बताया कि 18 साल की उम्र में उनसे गलती से गौ हत्या हो गई थी, जिसके बाद वह इस तरह प्रायश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं. बाबा से जब पूछा गया कि क्या उन्हें खुद को इस तरह कष्ट देकर दर्द नहीं होता तो उन्होंने कहा, दर्द तो होता है, लेकिन सहन कर जाता हूं. बाबा ने बताया कि देश में जहां भी बड़ा धार्मिक आयोजन होता है. वहां वह मुख्य दिन जरुर जाते हैं. Also Read - डेविड वार्नर का टीम में होना फ्लॉएड मेवैदर के टीम में होने जैसा : जस्टिन लैंगर

बाबा को कुंभ के मेले और दूसरे बड़े धार्मिक आयोजनों पर देखा जाता है. सावन के चौथे सोमवार पर इन्हें महादेव घाट के किनारे लोगों ने कांटों पर लेटे हुए देखा. उधर से जो भी गुजरा उसके मुंह से आह शब्द निकल गया. इन्हें कांटों पर लेटा हुआ देखा लोग सिहर गए. भक्तों ने इनपर चढ़ावा चढ़ाया और आशीर्वाद लिया. Also Read - दिल्ली में कोरोना के 2,505 नये मामले, एक लाख के करीब पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा