नई दिल्ली: ढाई महीने की मासूम बच्ची जिसने दुनिया में कदम ही रखा था जिसे उसके अभागे पिता ने दूसरों के हाथों बेच दिया. उस बच्ची को क्या पता कि दुनिया कितनी जालिम है और बेटियों की आज भी कीमत लगाई जाती है. माता-पिता तीसरी संतान बेटी होने के बाद तनाव में थे कि बेटी लेकर क्या करेंगे. परेशान पिता ने पहले से दो बेटियों के बाद तीसरी बेटी होने पर उसे  60 हजार रुपये में बेच दिया. उसके बाद उस बच्ची के साथ क्या हुआ…

घटना दिल्ली जैसे शहर की है. परिवार में पहले से दो बेटियां थीं, तीसरी संतान भी बेटी ही, जिससे पिता दुखी था। उसने जाफराबाद में ढ़ाई महीने की अपनी तीसरी बेटी को 60 हजार रुपये में जाफराबाद में मनीषा नामक महिला को बेच दिया. बच्ची को बेचने के कुछ दिनों बाद उसे शर्मिंदगी महसूस हुई तो उसने महिला आयोग में जाकर अपनी पूरी कहानी बता दी.

तीन बार बिकी ढ़ाई महीने की मासूम

पिता अमनदीप की निशानदेही पर दिल्ली महिला आयोग की टीम जाफराबाद इलाके में पहुंची और पुलिस से संपर्क किया. वहां उसे मनीषा नहीं मिली, जब उसे फोन किया गया तो उसने बताया कि बच्ची को तो उसने मादीपुर में दीपा एवं मंजू को बेच दिया है.

मनीषा के बताए गए पते पर महिला आयोग और पुलिस की टीम तत्काल मादीपुर पहुंची, वहां इंदू मिली और उसने बताया कि मंजू एवं मनीषा ने उसके पास बच्ची छोड़ा जरूर था लेकिन फिलहाल दोनों उसे लेकर शकूरपुर में हैं. पुलिस ने शकूरपुर में मंजू को पकड़ा तो उसने बताया कि बच्ची संजय नाम के कारोबारी को एक लाख रुपये में बेच दी है.

पुलिस संजय के घर पहुंची जो चावड़ी बाजार में रहते हैं और पता चला कि वो निस्संतान हैं. पूरी रात यहां से वहां भागने के बाद गुरुवार सुबह बच्ची को संजय के पास से बरामद कर लिया गया. पुलिस ने मानव तस्करी के आरोप में पिता अमनप्रीत, इंदु, मंजू, मनीषा एवं बच्ची को खरीदने वाले संजय को गिरफ्तार कर लिया है.

पिता ने कहा-डिप्रेशन में था, बेच दी बेटी

पुलिस को पिता अमनदीप ने बताया कि वह ड्राइवर का काम करता है और उसे पहले से ही दो बेटियां हैं और लॉकडाउन के दौरान जब तीसरी संतान भी बेटी हुई तो वह डिप्रेशन में चला गया था. मेरे पास पैसे नहीं जो बच्ची को पाल सकूं ये सोचकर उसने मनीषा को अपनी बेटी बेच दी. लेकिन जब उसे पता चला कि मनीषा ने भी बच्ची को बेच दिया है तो उसे अपनी बच्ची की फ्रिक हुई तो वह महिला आयोग पहुंचा था.

महिला आयोग की अध्यक्ष ने पुलिस को धन्यवाद कहा

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने पुलिस को बच्ची की बरामदगी के बाद धन्यवाद कहा है. उन्होंने बताया कि बच्ची के लिए पुलिस ने रात भर में कई जगह छापे मारे और एक बड़े रैकेट जिसमें बच्ची को पांच बार बेचा गया, उससे छुड़वाया. उन्होंने बताया कि इस मामले में पांच लोग गिरफ्तार भी हुए हैं, इन्हें सख्त सजा दिलायी जाएगी.