उत्तर के जौनपुर में एक ऐसा गाँव है जहा पर पढ़ने लिखनेवालो युवको ने गाँव का नाम रोशन कुछ इस तरह से कर दिया है की अगर पूछा जाए की वो कौन सा गांव है जहाँ पर सबसे ज्यादा  आईएएस और अधिकारी लेबल के लोग रहते है तो जौनपुर के माधोपट्टी गांव का नाम पहले लिया जाता है।

जौंनपुर का माधोपट्टी गांव इस गावँ में कुल 47 आईएएस अधिकारी है। जो अपने मेंहनत के दम पर इस मुकाम पर पहुचे है। यही नही इस गांव के अन्मजेय सिंह विश्‍व बैंक मनीला में, डॉक्‍टर निरू सिंह लालेन्द्र प्रताप सिंह वैज्ञानिक के रूप भाभा इंस्टीट्यूट तो ज्ञानू मिश्रा इसरो में सेवाएं दे रहे हैं। यहीं के रहने वाले देवनाथ सिंह गुजरात में सूचना निदेशक के पद पर तैनात हैं। यह भी पढ़े-प्रेमिका को कोई और पसंद न आ जाये इसलिए इस प्रेमी ने प्रेमिका को खिला- खिलाकर मोटी बना दिया

75 घरो का यह गांव उत्तर प्रदेश में एक चमकीले सितारे की तरह चम चमा रहा है। इस गावँ में पढ़ने और लिखने की होड़ तब लगी जब मुस्तफा हुसैन सन 1914 पीसीएस और 1952 में इन्दू प्रकाश सिंह का आईएएस की दूसरी रैंक में सलेक्शन क्या हुआ। उसके बाद इस गावँ में मानो एक गजब की होड़ लग गयी और वो सिलसिला बदस्तूर आज भी जारी है। तब से लेकर आज तक इस गांव में युवा पुरे जोश के साथ पढाई करते है और हर क्षेत्र में अपनी काबलियत का लोहा मनवा रहे है।