नई दिल्ली. आज की तनाव भरी दुनिया में सेहत बनाने के लिए लोग हरसंभव कोशिश करते हैं. घर में ट्रेड-मिल पर दौड़ना हो या पार्क के चक्कर लगाना हो या फिर जिम में बॉडी-बिल्डिंग एक्सरसाइज. दुनिया में कई ऐसे देश हैं जहां की सरकारें भी अपनी जनता की सेहत की फिक्र करती है. इसके लिए सार्वजनिक स्थानों पर लोगों को कसरत यानी एक्सरसाइज करने के लिए प्रेरित किया जाता है. जी हां, इंटरनेट पर इन दिनों रूस का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक व्यक्ति मशीन के सामने उठक-बैठक यानी पुश-अप (push-up) लगा रहा है. दरअसल, रूस की राजधानी मास्को में मेट्रो स्टेशन पर ऐसी वेंडिंग मशीन लगाई गई है जिसके सामने उठक-बैठक लगाने पर वह टिकट देती है. मेट्रो से सफर करने वाला कोई भी पैसेंजर इस मशीन के सामने 30 बार उठक-बैठक लगा सकता है और बदले में उसे मनचाहे गंतव्य का टिकट मिल जाता है. आप भी देखिए Video.

पॉपुलर हो रहा टिकट लेने का ये तरीका
रूस की राजधानी में मेट्रो का टिकट पाने का यह तरीका बड़ी तेजी से पॉपुलर हो रहा है. दरअसल, पिछले दिनों मास्को के जिस मेट्रो स्टेशन पर यह टिकट वेंडिंग मशीन इंस्टॉल की गई, वह एक इंटरऐक्टिव सिस्टम की तरह काम करती है. इस मशीन के सामने खड़े होकर निर्धारित स्थान पर 30 बार पुश-अप लगाने होते हैं. आपके सामने मशीन उठक-बैठक की गिनती करती रहती है. ज्यों ही 30 की संख्या पूरी होगी, मशीन से आपको अपने गंतव्य स्थान का टिकट मिल जाएगा. लोगों की सेहत सुधारने के दृष्टिकोण से मेट्रो स्टेशन पर किए जा रहे इस प्रयोग को मास्को में काफी सराहा जा रहा है. मेट्रो से सफर करने वाले पैसेंजर्स बड़ी तादाद में इस मशीन के सामने 30 बार उठक-बैठक लगाकर टिकट ले रहे हैं.

पहली बार 2013 में किया गया था प्रयोग
मास्को में मेट्रो स्टेशनों पर टिकट वेंडिंग मशीन इंस्टॉल कर सेहत सुधारने का यह प्रयोग पहली बार नहीं किया गया है. इससे पहले वर्ष 2013 में सोची विंटर ओलंपिक खेलों के समय विस्तावोचाया (Vystavochaya) नामक स्टेशन पर ऐसी ही वेंडिंग मशीन लगाई गई थी. ओलंपिक खेलों के दौरान उस समय इन मशीनों को मेट्रो स्टेशन पर लगाने के पीछे की वजहों के बारे में बताया गया था कि खिलाड़ियों के साथ-साथ आम लोगों का रुझान भी सेहत के प्रति बढ़े, इसके लिए यह प्रयोग किया जा रहा है. जाहिर है, इन मशीनों के प्रति उस समय भी लोगों की प्रतिक्रिया सकारात्मक रही और आज भी जब ये प्रयोग एक बार फिर किया जा रहा है तो लोग काफी उत्साह के साथ कदम बढ़ा रहे हैं. बहरहाल, रूस की राजधानी मास्को में सेहत बनाने का यह अनोखा तरीका तेजी से पॉपुलर हो रहा है.

भारत में भी चला फिटनेस चैलेंज अभियान
अपने देश में भी खेल मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौर ने कुछ महीने पहले #फिटनेस चैलेंज (fitness challenge) नाम से सेहत बनाने के अभियान की शुरुआत की थी. इसके तहत खेल मंत्री ने विभिन्न खेलों से जुड़े खिलाड़ियों और राजनेताओं को फिटनेस चैलेंज दिया था. पीएम नरेंद्र मोदी ने भी टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का फिटनेस चैलेंज स्वीकार करते हुए योग से फिट रहने का तरीका सुझाया था. पीएम मोदी ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा था कि फिट रहकर ही देश की तरक्की में मदद की जा सकती है. इसके बाद कई खिलाड़ियों और नेताओं ने सेहत बनाने से जुड़े वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर कर लोगों को सेहत बनाने के लिए कसरत करने को प्रेरित किया था.