नई दिल्ली. इंसान अगर हिम्मत से काम ले तो वह बड़े से बड़े दुश्मन के भी छक्के छुड़ा सकता है. छोटे-मोटे बदमाशों की तो बात ही कौन करे. जी हां, कुछ ऐसा ही एक वाकया पंजाब के मोगा शहर में देखने को आया, जहां एक महिला दुकानदार ने डकैती के इरादे से आए हथियारबंद बदमाशों के अकेले ही छक्के छुड़ा दिए. बदमाशों के हाथ में पिस्तौल देखकर भी यह महिला नहीं डरी और डकैतों का जोरदार प्रतिरोध किया. दुकान में घुस आए दो बदमाशों ने पहले तो महिला और वहीं पास में बैठे एक अन्य व्यक्ति को डरा-धमकाकर लूट-पाट मचानी चाही, लेकिन जब बदमाशों की हरकत के आगे महिला नहीं झुकी तो फिर डकैतों को दुम दबाकर भागना पड़ा. इस पूरी घटना की रिकॉर्डिंग दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है. आप भी देखिए Video. Also Read - सरकार किसान यूनियनों से बात के लिए तैयार, राजनीतिक दल पॉलिटिक्‍स न करें: केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर

दरअसर, पंजाब के मोगा जिले में रात के समय दो युवक अचानक हथियार लेकर दुकान में घुस आए. दोनों युवकों ने दुकान में घुसने के बाद काउंटर पर बैठी महिला को डराना-धमकाना शुरू कर दिया. इस दौरान एक युवक तो महिला पर पिस्तौल ताने हुए था, जबकि दूसरा काउंटर के अंदर आने की कोशिश कर रहा था. अचानक हुए इस हमले से पहले तो काउंटर पर बैठी महिला दुकानदार भौचक हो गई. वहीं उसके पास ही बैठा एक अन्य व्यक्ति भी कुछ कर पाने में असमर्थ दिख रहा था. इस बीच दोनों बदमाश लगातार काउंटर पर बैठी महिला को धमका रहे थे. लेकिन अचानक वह महिला उठी और युवकों के साथ बहस करने लगी. सीसीटीवी फुटेज में साफ दिख रहा है कि बहस करते हुए यह महिला दोनों बदमाशों को पकड़ने के लिए आगे बढ़ रही है. महिला को आगे आते देख दोनों युवकों को पीछे हटना पड़ा. Also Read - Corona Dance: शादी सामारोह में पीपीई किट पहन नाचा शख्स, Video वायरल

वीडियो में दिख रहा है कि दोनों डकैत दुकान से बाहर निकलने से पहले महिला के ऊपर पिस्तौल तानते हुए उसे पीछे हटने को कह रहे हैं, लेकिन महिला साहस के साथ आगे बढ़कर डकैतों को पकड़ने की कोशिश करती दिख रही है. दुकान में डकैती की इस नाकाम घटना की सीसीटीवी फुटेज कुल 40 से 45 सेकेंडों की ही है, लेकिन इतने कम समय में ही इस महिला ने अपनी हिम्मत के बलबूते अपराधियों को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया. वीडियो में दिख रहा है कि महिला के आगे दोनों बदमाशों की एक नहीं चली और उन्हें दुम दबाकर दुकान से भागना पड़ा.