उत्तर प्रदेश: उत्तर प्रदेश के संभल जिले में एक विचित्र घटना सामने आई है जिसमें, एक मुस्लिम महिला ने अपने पति से इस आधार पर तलाक मांगा है कि वह उसके साथ नहीं लड़ता है. महिला ने अपनी शादी के 18 महीने बाद तलाक के लिए शरिया अदालत का दरवाजा खटखटाया है. महिला ने बताया है किया कि उसके पति का उसके लिए इतना प्यार उसके लिए ‘घुटन’ था. अब वह तलाक चाहती है. Also Read - UP: स्‍टोन व्यवसायी के मर्डर से जुड़े 5 ऑडियो लीक, IPS, IAS और नेताओं के Nexus का खुलासा

महिला ने कहा, “वह मुझ पर कभी चिल्लातानहीं है और न ही उसने मुझे कभी किसी मुद्दे पर परेशान किया है. वह मेरे लिए खाना बनाता है और घर का काम करने में भी मेरी मदद करता है।” Also Read - School Reopening: क्‍या यूपी में 21 सितंबर से नहीं खुलेंगे स्कूल?, डिप्‍टी सीएम ने दिया बड़ा बयान

उसने आगे कहा, “जब भी मुझसे कोई गलती होती है, तो वह हमेशा मुझे माफ कर देता है. मैं उससे बहस करना चाहती थी, लेकिन वह मुझसे बहस नहीं करता. मुझे ऐसी जिंदगी की जरूरत नहीं है, जहां पति हर बात के लिए राजी हो।” Also Read - योगी आदित्यनाथ ने पेंशन के 1,311 करोड़ ऑनलाइन किए ट्रांसफर, इन लाभार्थियों को मिलेगा लाभ

शरिया अदालत के मौलवी ने तलाक के लिए उसकी याचिका को जानबूझकर खारिज कर दिया है. जब शरिया अदालत ने उसे तलाक देने से इनकार कर दिया, तो महिला ने मामले को स्थानीय पंचायत के साथ उठाया, जिसने इस मुद्दे को तय करने में असमर्थता व्यक्त की.

इस बीच, महिला के पति ने कहा कि वह अपनी पत्नी से बेइंतहा प्यार करता था और हमेशा उसे खुश रखना चाहता था.उन्होंने शरिया अदालत से इस मामले को वापस करने का भी अनुरोध किया है. कोर्ट ने अब इस दंपति को मामले को परस्पर सुलझाने के लिए कहा है.