नई दिल्ली: कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने पंजाब के सीएम पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. इसके बाद से सीएम कांग्रेस और खासकर नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) पर हमलावर हैं. अमरिंदर सिंह ने कहा इस्तीफे के बाद कई बड़े बयान दिए हैं, जिसमें उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू का खुलकर विरोध कर रहे हैं. इस पूरे घटनाक्रम के बीच पंजाब में कुछ महीने बाद विधानसभा चुनाव होने हैं.Also Read - सिद्धू की पत्नी ने अमरिंदर पर लगाया बड़ा आरोप, 'पंजाब में एक भी पोस्टिंग अरूसा आलम को पैसे, तोहफे दिए बिना नहीं हुई'

न्यूज़ एजेंसी एएनआई से अमरिंदर सिंह ने बात करते हुए कहा कि अगर पंजाब में सीएम के तौर पर नवजोत सिंह सिद्धू के नाम को आगे बढ़ाया जाता है तो वह देश के लिए इसका विरोध करेंगे. ये देश की सुरक्षा से जुड़ा मामला है. पाकिस्तान के पीएम इमरान खान से सिद्धू की दोस्ती है. इसके साथ ही सिद्धू की दोस्ती पाकिस्तान के सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा से भी है. Also Read - पंजाब की राजनीति में 'अरूसा आलम' की एंट्री, उप मुख्यमंत्री रंधावा बोले- अमरिंदर की इस पाकिस्तानी मित्र के ISI से संबंध हैं या..

बता दें कि सिद्धू से विवादों के चलते अमरिंदर सिंह ने इस्तीफ़ा दे दिया है. इस्तीफे के बाद अमरिंदर सिंह ने कहा कि ‘मैंने पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष को इस्तीफे के बारे में बता दिया था. अगर उन्हें शक था कि मैं सरकार नहीं चला पा रहा हूँ तो उन्हें मुझे बता देना चाहिए था. मैंने अपमानित महसूस किया. कांग्रेस नेतृत्व को जिस पर विश्वास हो, उसे सीएम बनाएं. Also Read - Punjab Polls 2022: कांग्रेस ने राजस्थान के मंत्री हरीश चौधरी को पंजाब में सौंपी बड़ी जिम्मेदारी

क्या नए सीएम को वह स्वीकार करेंगे? इस सवाल पर अमरिंदर सिंह ने कहा कि मुझे बहुत लोगों ने समर्थन दिया है. मैं साढ़े नौ साल सीएम रहा. कई दशक से राजनीति में हूँ, इसलिए मैं पहले अपने लोगों से बात करूँगा, इसके बाद इस बारे में कुछ कहूँगा. हालाँकि अमरिंदर सिंह ने कहा कि मैं कांग्रेस में हूँ, लेकिन आगे की रणनीति अपने लोगों के साथ मीटिंग के बाद ही तय होगी.