नई दिल्ली: पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने राज्य में नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को लेकर बढ़ते तनाव को लेकर दिल्ली में कांग्रेस के तीन सदस्यीय पैनल से मुलाकात की. नवजोत सिंह सिद्धू ने मुख्यमंत्री के खिलाफ अपना हमला तेज कर रखा है. पैनल के प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे ने बैठक के बाद कहा, “सभी ने कहा है कि वे एक साथ चुनाव लड़ेंगे और पार्टी सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में एकजुट है.”Also Read - कैप्टन अमरिंदर से पहले भी बीजेपी में शामिल हो चुके हैं कई पूर्व मुख्यमंत्री, लंबी है लिस्ट

हालांकि, सूत्रों का कहना है कि पैनल ने राज्य की राजनीतिक स्थिति और सिद्धू से जुड़े मुद्दों और मुद्दे को हल करने के संभावित तरीकों पर भी चर्चा की. राज्य पार्टी इकाई में गुटबाजी को हल करने के अलावा चुनाव की तैयारी के लिए पैनल को बड़ा जनादेश मिला है. हालांकि सिद्धू मुख्यमंत्री पर हमले से बाज नहीं आ रहे हैं. उन्होंने मुद्दों के जल्द समाधान पर जोर दिया है, जबकि प्रदेश प्रभारी हरीश रावत ने कहा है कि मामला सोनिया गांधी के पास है और उन्होंने सिद्धू के बयानों पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. Also Read - BJP में शामिल हुए पंजाब के पूर्व CM कैप्टन अमरिंदर सिंह, भाजपा में अपनी पार्टी का किया विलय

पैनल की अध्यक्षता राज्यसभा में विपक्ष के नेता, मल्लिकार्जुन खड़गे और हरीश रावत और जेपी अग्रवाल इसके सदस्य हैं. कांग्रेस पैनल को राज्य में किसी भी गुट को अलग किए बिना इस मुद्दे को हल करने के लिए अधिकृत किया गया है. इन्होंने 10 जून को पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी. सूत्रों ने कहा कि पैनल ने मुख्यमंत्री को हटाने की सिफारिश नहीं की है और अमरिंदर सिंह के अगले चुनाव में पार्टी का नेतृत्व करने की संभावना है. इसके बजाय, पार्टी की राज्य इकाई में कई सुधारों का सुझाव दिया गया है. Also Read - पटियाला जेल में बनी सिद्धू और मेहंदी की जोड़ी, नवजोत के घुटनों में दर्द तो दलेर का दिल दुखी

हालांकि नवजोत सिंह सिद्धू की किस्मत का रास्ता अभी भी साफ नहीं हुआ है. सूत्रों ने यह भी कहा कि पैनल पंजाब कैबिनेट में उनका पुनर्वास चाहता है. अमरिंदर सिंह सिद्धू को डिप्टी सीएम बनाए जाने के खिलाफ हैं, लेकिन उन्हें कैबिनेट में शामिल करने के लिए तैयार हैं. पैनल ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू सहित पार्टी के सभी हितधारकों से मुलाकात की.