Punjab Assembly Polls 2022: भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने शुक्रवार को पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Election) के लिए 34 उम्मीदवारों की पहली सूची (BJP Punjab List) जारी कर दी. पार्टी की इस सूची में किसान परिवारों के 12 नेताओं, 13 सिखों और आठ दलितों को टिकट दिया है. केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) औBJP महासचिव व पंजाब के प्रभारी दुष्यंत गौतम और महासचिव तरुण चुग ने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की. चुग ने उम्मीदवारों का नाम घोषित करने से पहले कहा कि पार्टी ने 12 ऐसे नेताओं को टिकट दिया है, जो किसान परिवार से आते हैं, जबकि पार्टी ने 13 सिखों और आठ दलितों को भी अपना उम्मीदवार बनाया है. उन्होंने कहा, ‘भाजपा सभी धर्म, जाति और संप्रदाय को साथ लेकर चलने वाली पार्टी है. इसलिए 34 उम्मीदवारों की सूची में राज्य की जितनी भी बिरादरी है, उन्हें प्रतिनिधित्व दिया गया है. इन उम्मीदवारों में महाजन, खत्री, बनिया, ब्राह्मण और जाट भी हैं.’ उन्होंने कहा कि उम्मीदवारों में डॉक्टर, अधिवक्ता, उद्योगपति, मजदूर और श्रीगुरुद्वारा प्रबंधक समिति का चुनाव जीतने वाले भी शामिल हैं.Also Read - कैलाश विजयवर्गीय बोले- ज्ञानवापी मस्जिद विवाद जैसे धार्मिक मसले भाजपा नहीं बल्कि जनता उठा रही है

Also Read - ट्रैफिक जाम में फंसे अफसर ने सफाईकर्मी को मारा थप्पड़, वीडियो वायरल होने पर CM हेमंत सोरेन ने दिया कार्रवाई का आदेश

इससे पहले, पुरी ने आम आदमी पार्टी (AAP) द्वारा भगवंत मान को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने के लिए दिल्ली की सत्ताधारी पार्टी को आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा कि आप ने ऐसे छवि के व्यक्ति को मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाया है, जिसके बारे में उन्हीं के संसदीय क्षेत्र के लोग अक्सर शिकायत किया करते हैं। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि शराब पीना व्यक्ति का निजी मामला है. उन्होंने कहा कि पंजाब एक संवेदनशील सीमाई राज्य है और देश के विकास में उसका बहुत बड़ा योगदान है, लेकिन आज वहां की स्थिति ऐसी हो गई है कि वह नशे की समस्या और रेत व अन्य माफिया जैसी समस्याओं से जूझ रहा है. गौतम ने कहा कि पंजाब की जनता कांग्रेस के ‘कुशासन’ से त्रस्त है. Also Read - जेपी नड्डा से मिलकर बोले अर्जुन सिंह- मैं इंतजार कर रहा हूं, क्या अब भाजपा से विदा लेना चाहते हैं सांसद ?

Image

उन्होंने कहा, ‘पिछले कुछ समय से पंजाब में नशे की समस्या, भ्रष्टाचार और कई अन्य समस्याएं आती रहीं, दुर्भाग्य है कि आज भी वो समस्याएं जस की तस हैं. पिछली सरकार में पंजाब में कोई प्रगति नहीं हुई है. पंजाब में कांग्रेस के वर्तमान मुख्यमंत्री भ्रष्टाचार में आकंठ डूबे हुए हैं. उनकी ही विधानसभा में रेत का अवैध खनन हो रहा है. इससे साबित हो रहा है कि प्रदेश के रेत माफियाओं से उनके घनिष्ठ संबंध हैं.’ पंजाब में 20 फरवरी को मतदान होना है जबकि मतगणना 10 मार्च को होगी. पंजाब में कुल 117 विधानसभा सीट है.

Image

भाजपा इस बार राज्य में पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाले पंजाब लोक कांग्रेस और पूर्व केंद्रीय मत्री सुखदेव सिंह ढींढसा के नेतृत्व वाले शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है. पिछले विधानसभा चुनाव में प्रमुख विपक्षी दल का स्थान हासिल करने वाली दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (AAP) भी सत्ता पाने के लिए प्रयासरत है. पिछले दिनों उसने संगरूर के सांसद भगवंत मान को मुख्यमंत्री पद का चेहरा घोषित किया है.

Image

भाजपा से गठबंधन तोड़ने के बाद शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने बहुजन समाज पार्टी (BSP) से गठबंधन किया है. केंद्र के तीन कृषि कानूनों के मुद्दे पर SAD ने भाजपा से किनारा कर लिया था. जून 2021 में इस गठबंधन में बनी सहमति के आधार पर शिअद 97 सीटों पर और बसपा 20 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. शिअद और आप ने चुनाव के लिए ज्यादातर सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी है. शिअद ने 90 से अधिक विधानसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी है, जबकि आप ने 112 उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं. वहीं, कांग्रेस ने पंजाब में 86 उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची जारी की है. पार्टी ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू, उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर रंधावा और ओ पी सोनी समेत कई वरिष्ठ नेताओं को चुनाव के मैदान में उतारा है.

(इनपुट: भाषा)