Punjab Assembly Election 2022: पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के ‘‘काले अंग्रेज’’ वाले बयान पर अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने निशाना साधा है. आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) के नेता अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उनका रंग सांवला हो सकता है, लेकिन मंशा बिल्कुल साफ है और वह झूठे वादे नहीं करते. पंजाब की भलाई चाहता हूं. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पंजाब (Punjab Vidhansabha Chunav) में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों के बाद आम आदमी पार्टी के सत्ता में आने पर राज्य में जन्में लोगों को मुफ्त और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने तथा ड्यूटी के दौरान मरने वाले सैनिकों या पुलिस के जवानों के परिवारों को एक करोड़ रुपये की अनुग्रह राशि देने का वादा किया.Also Read - Punjab Polls 2022: नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ अमृतसर पूर्व से चुनाव लड़ेंगे SAD नेता बिक्रम सिंह मजीठिया

पंजाब के मुख्यमंत्री ने आम आदमी पार्टी (आप) को 2022 के राज्य विधानसभा चुनाव जीतने की जुगत में लगी “काले अंग्रेज” की पार्टी करार दिया था. इस पर केजरीवाल ने कहा कि भले ही उनकी त्वचा का रंग सांवला है, लेकिन उनकी नीयत साफ है. पंजाब में 2022 के आरंभ में विधानसभा चुनाव होने हैं. अमृतसर से पठानकोट जाते समय आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने पत्रकारों से कहा, ‘‘मैं उन्हें (कांग्रेस से) कहना चाहता हूं कि एक बार जब हमारी सरकार सत्ता में आ जाएगी तो साधारण कपड़े पहने वाला, और जिसका रंग सांवला है, वह सभी वादे पूरे करेगा. मैं झूठी घोषणाएं या झूठे वादे नहीं करता.’’ Also Read - Punjab Elections 2022: कांग्रेस ने पंजाब के लिए 23 उम्‍मीदवारों का किया ऐलान, देखें List

केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने वादा किया है कि सत्ता में आने पर आप महिलाओं को हर महीने एक हजार रुपये देगा, इसके लिये पंजाब के मुख्यमंत्री उन्हें गाली दे रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मैं चन्नी साहब का बेहद आदर करता हूं, लेकिन जब से मैने सत्ता में आने पर सभी महिलाओं को एक हजार रुपये देने की घोषणा की है, वह मुझे गाली दे रहे हैं. कुछ दिन पहले उन्होंने साधारण कपड़े पहनने के लिये मुझ पर तंज कसा था, लेकिन मैं उन्हें कहना चाहता हूं, मुझे इससे कोई दिक्कत नहीं है .’’ Also Read - Punjab ke CM: पंजाब के अंतिम हिंदू मुख्यमंत्री थे रामकिशन, राज्य बंटवारे के कारण देना पड़ा था इस्तीफा

उन्होंने कहा ‘‘जब हम महिलाओं को एक एक हजार रुपये देंगे तब हम अपनी माताओं और बहनों को खुद के लिए नए सूट खरीदते देख खुश होंगे.’’ केजरीवाल ने कहा, ‘‘कल, उन्होंने (चन्नी) मुझे कहा कि मैं ‘काला’ (सांवले रंग का) हूं. मैं मानता हूं कि मेरा रंग सांवला है. मैं हर गांव का दौरा करता हूं और तेज धूप में बाहर निकलने पर मेरी त्वचा सांवली हो गई है. मैं उनकी तरह हेलीकॉप्टर में यात्रा नहीं करता’’ उन्होंने कहा, ‘‘मेरी माताओं और बहनों को यह ‘काला भाई’ (सांवला भाई) पसंद है. हर कोई जानता है कि मेरी मंशा साफ है, और हर कोई जानता है कि किसकी मंशा खराब है.’’

बाद में पठानकोट में अपनी पार्टी की ‘तिरंगा यात्रा’ के दौरान, केजरीवाल ने मुफ्त और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का वादा किया और उनकी पार्टी के सत्ता में आने पर ड्यूटी के दौरान मरने वाले सैनिकों या पुलिस जवानों के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की. केजरीवाल ने यात्रा के दौरान पंजाब के लोगों के लिए अपनी चौथी ‘गारंटी’ की घोषणा करते हुए कहा कि प्रदेश में पैदा हुए सभी लोगों को मुफ्त और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देना हमारी सरकार की जिम्मेदारी होगी. उन्होंने कहा, ‘‘हर व्यक्ति, चाहे वह गरीब हो या अमीर हो, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करेगा. हम नये स्कूल बनायेंगे. दिल्ली का 25 फीसदी बजट स्कूल के बुनियादी ढांचे पर खर्च होता है.’’ उन्होंने कहा कि अस्थायी शिक्षकों की सेवायें नियमित की जायेंगी और उनके लंबित मसलों का समाधान होगा. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘दिल्ली की तरह, मैं पंजाब में बेहतर शिक्षा व्यवस्था की गारंटी देता हूं. हम पंजाब को शिक्षा का हब बनायेंगे.’’