चंडीगढ़: पंजाब सरकार जुलाई के अंत तक राज्य में 75 और ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करेगी ताकि कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर से पहले इस जीवन रक्षक गैस की आपूर्ति बढ़ाई जा सके. यह जानकारी मुख्य सचिव विनी महाजन ने रविवार को दी. विनी महाजन ने बताया कि सभी संबंधित विभागों से कहा गया है कि वे जुलाई के अंत तक प्रेशर स्विंग ऐड्सॉर्प्शन (पीएसए) संयंत्र स्थापित करने का काम पूरा कर लें और उनसे आपूर्ति की जाने वाली जीवनरक्षक गैस का दबाव और शुद्धता सुनिश्चित करें.Also Read - बिहार में कोरोना की तेज रफ्तार, पटना के बेउर जेल में 37 कैदी कोरोना पॉजिटिव निकले

उन्होंने कहा कि इससे पंजाब के सभी स्वास्थ्य देखभाल संस्थानों की ऑक्सीजन की जरूरत पूरी हो जाएगी. महाजन ने पीएसए संयंत्र को स्थापित करने और उससे जुड़े कार्यों की समीक्षा के लिए हुई उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करने के बाद आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी. Also Read - दिल्ली के कई इलाकों में मिला ओमीक्रोन का बीए 5 वैरिएंट, इससे तेजी से फैलता है संक्रमण

महाजन ने संबंधित अधिकारियों से कहा कि पीएसए संयंत्र स्थापित करने से पहले के कार्यों को 15 जुलाई तक पूरा कर लिया जाए ताकि संयंत्रों को स्थापित करने और चालू करने का कार्य 25 जुलाई तक पूर्ण किया जा सके. Also Read - गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के पिता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, बोले-कोई भी वकील मेरे बेटे का केस लड़ने को तैयार नहीं

बैठक के दौरान प्रधान सचिव (जलापूर्ति एवं स्वच्छता) जसप्रीत तलवार जो राज्य ऑक्सीजन प्रबंधन समूह की अध्यक्षता कर रहे हैं, ने महाजन को बताया कि पंजाब में 1400-1400 लीटर प्रति मिनट क्षमता के दो पीएसए लुधियाना और जालंधर में काम कर रहे हैं जबकि 42 संयंत्र केंद्र ने राज्य के चिकित्सा महाविद्यालयों और जिला अस्पतालों के लिए आवंटित किए हैं. वहीं, 33 संयंत्रों की व्यवस्था विभिन्न एजेंसियों और निजी निकायों ने की है. इससे राज्य की ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता में 50 मीट्रिक टन रोजाना की बढ़ोतरी होगी.