Punjab Politics: कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद पंजाब में पहली बार कांग्रेस ने दलित नेता चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को पंजाब  का मुख्यमंत्री बनाया है. आज सुबह 11 बजे चन्नी पंजाब के 17वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे. उनके साथ आज पंजाब में दो उपमुख्यमंत्री भी शपथ ग्रहण करेंगे, लेकिन उनके नाम अभी नहीं बताए गए हैं. इतना कहा गया है कि इनमें से एक सिख समुदाय से होगा और एक हिंदू समुदाय से. आखिर सीएम की रेस में चरणजीत सिंह चन्नी कैसे सुखजिंदर सिंह रंधावा से आगे निकल गए , क्यों पार्टी की पहली पसंद बन गए…Also Read - सिद्धू की पत्नी ने अमरिंदर पर लगाया बड़ा आरोप, 'पंजाब में एक भी पोस्टिंग अरूसा आलम को पैसे, तोहफे दिए बिना नहीं हुई'

चन्नी को कांग्रेस ने क्यों चुना सीएम, जानिए Also Read - पंजाब में BSF का अधिकार क्षेत्र बढ़ाने से सीएम नाराज, पीएम मोदी को पत्र लिखकर कहा- इस 'काले कानून' पर विचार करें

पंजाब में कुछ महीनों के बाद ही विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Elections) होने हैं और उससे पहले कांग्रेस ने चन्नी को सीएम चुना है. इस फैसले से पार्टी का फायदा हो सकता है, बता दें कि पंजाब में लगभग 30 प्रतिशत दलित आबादी और दलित मुख्यमंत्री बनाकर कांग्रेस अपने आगे का रास्ता साफ करती नजर आ रही है. Also Read - Navjot Sidhu ने अमरिंदर सिंह पर साधा निशाना, कहा- 'कैप्टन ने ही तैयार कराए तीनों कृषि कानून'

नवजोत सिंह सिद्धू की अब क्या होगी जगह, कहा रावत ने…

वहीं, अमरिंदर सिंह के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले नवजोत सिंह सिद्धू की पार्टी में क्या जगह होगी, इसके बारे में हरीश रावत ने बताया कि आगामी राज्य चुनावों के लिए पार्टी का चेहरा तो कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा तय किया जाएगा, लेकिन परिस्थितियों को देखते हुए, चुनाव सीएम चेहरे के साथ लड़ा जाएगा और पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के तहत कैबिनेट, जिसके प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू हैं. वह बहुत लोकप्रिय हैं.

जानिए कौन हैं 58 वर्षीय चरणजीत सिंह चन्नी

58 वर्षीय चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री होंगे. वे इससे पहले राज्य के तकनीकी शिक्षा मंत्री थे और चमकौर साहिब निर्वाचन क्षेत्र से तीन बार से विधायक हैं.बता दें कि चन्नी का जन्म 1963 में कुराली के पास पंजाब के भजौली गाँव में हुआ था और उनका परिवार मलेशिया में बस गया था जहाँ उनके पिता काम करते थे, लेकिन वे 1955 में भारत लौट आए और पंजाब के एसएएस नगर जिले के खरार शहर में बस गए.

ऐसा होगा चन्नी का शपथ ग्रहण समारोह….

आज सुबह 11 बजे सीएम पद की शपथ लेंगे चरणजीत सिंह चन्नी.

चरणजीत सिंह चन्नी ने रूपनगर गुरुद्वारे में मत्था टेका.

पंजाब के राजभवन के हॉल में होगा मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह, मीडिया की एंट्री पर रोक.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी शपथ ग्रहण समारोह में होंगे शामिल.

राज्य में दो उपमुख्यमंत्री होंगे. ब्रह्म मोहिंद्रा और सुखजिंदर रंधावा ले सकते हैं डिप्टी सीएम पद की शपथ.

शपथ ग्रहण समारोह छोटा होगा जिसमें करीब 40 लोग शामिल होंगे

चन्नी के सामने पंजाब कांग्रेस में लगातार चल रही अंदरूनी कलह को नियंत्रित करने का चुनौतीपूर्ण काम है, जो अमरिंदर सिंह के जाने के बाद भी कम होने की संभावना नहीं है और राज्य में सत्ता बनाए रखने की कोशिश कर रही पार्टी के लिए एक बड़ी चुनौती बन सकती है.

चन्नी को राज्य चुनाव से पहले उन 18 वादों को अमल में लाने के लिए जमीन पर उतरना होगा जिन वादों की लिस्ट तीन महीने पहले आलाकमान ने अमरिंदर को सौंपी थी, उन्हें पूरा करने के लिए जमीन पर उतरना होगा.

चन्नी 2015 से 2016 तक पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता थे. उन्हें मार्च 2017 में कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार में मंत्री बनाया गया था.