वैश्विक महामारी कोविड-19 के दौरान पंजाब ने गेहूं और धान के उचित खरीद प्रबंधों के मामले में देश में मिसाल कायम की है. पंजाब के खाद्य आपूर्ति मंत्री भारत भूषण आशु ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हिदायतों के मद्देनजऱ 2020-21 के दौरान राज्य में 2136 अतिरिक्त खरीद केंद्र स्थापित किये गए थे. इससे कुल खरीद केंद्रों की संख्या बढकऱ 4006 हो गई थी. रबी सीजऩ के दौरान 127.11 लाख टन गेहूं की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की गई जिससे 10 लाख से अधिक किसानों को लाभ पहुंचा.Also Read - Jawahar Navodaya Vidyalaya: नवोदय विद्यालय के 59 छात्र समेत 69 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित

इसी प्रकार खरीफ खरीद सीजन के दौरान सभी खरीद एजेंसियों की तरफ से 202.78 लाख टन धान की खरीद की गई जो अब तक की धान की सबसे बड़ी खरीद साबित हुई है. सरकार ने राज्य के लोगों की भलाई के लिए कई बेमिसाल कार्य शुरू किए गए हैं. राज्य में स्मार्ट राशन कार्ड स्कीम की शुरुआत की गई, जिसके द्वारा 37 लाख परिवारों को चिप आधारित कार्ड दिए गए हैं. इसका लाभ 1.41 करोड़ लोगों को होगा. इस योजना के लाभार्थियों को सरकार की तरफ से तय अनाज हासिल करने के लिए किसी भी अन्य दस्तावेज को दिखाने की जरूरत नहीं पड़ती. इससे पूरी अनाज वितरण प्रणाली में पारदर्शिता बन गई है. इस स्कीम के अलावा राज्य प्रायोजित राशन कार्ड स्कीम के तहत सरकार की तरफ से 237200 परिवारों के 9,48,801 लाभार्थी परिवारों को राशन मुहैया करवाया जायेगा और यह स्कीम शुरू कर दी गई है. Also Read - Omicron Cases Update: अब महाराष्‍ट्र में मिला ओमीक्रोन का नया केस, देश में अब तक कुल 4 केस

आशु ने बताया कि सरकारी राशन डिपूओं की खाली पड़े 7219 पदों को भरने के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. जिनमें से 6232 पद ग्रामीण और 987 पद शहरी क्षेत्र से सम्बन्धित हैं. राशन डिपूओं के लाइसेंस आर.सी.एम.एस. (राशन कार्ड मैनेजमेंट सिस्टम) पोर्टल के द्वारा ऑनलाइन जारी किये जाएंगे. राज्य में गेहूं के वैज्ञानिक भंडारण करने के लिए सरकार प्रभावी ढंग से काम कर रही है. भारतीय खाद्य निगम ने राज्य में 34 लाख टन की क्षमता वाली बोरियों के निर्माण के लिए मंजूरी दे दी है. Also Read - Delhi COVID19 Update: Omicron के भय के बीच दिल्‍ली में कोरोना के 51 नए मामले आए