जयपुर: राजस्थान पुलिस के विशेष कार्यबल (एसओजी) ने विधायकों की खरीद फरोख्त के जरिए राजस्थान की चुनी हुई कांग्रेस सरकार को गिराने की साजिश के आरोपों में दो और प्राथमिकियां शुक्रवार को दर्ज कीं. ये प्राथमिकियां कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी की शिकायत पर दर्ज की गई हैं. वहीं, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कांग्रेस के आरोपों से इनकार किया है. Also Read - UP: भाजपा ने पीएम मोदी के करीबी MLC एके शर्मा को प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया, दो सचिवों की भी नियुक्ति की

बता दें कि राज्य में कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार को गिराने के षड्यंत्र और विधायकों को प्रलोभन दिए जाने के मामले में एसओजी इन्हें मिला कर अब तक तीन एफआईआर दर्ज कर चुकी है. वहीं, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा, ”मैं किसी भी जांच का सामना करने के लिए तैयार हूं। ऑडियो में मेरी आवाज नहीं हैं.” Also Read - Rahul Gandhi Birthday: राहुल गांधी 51 साल के हुए, बधाईयों का तांता, कांग्रेस मना रही 'सेवा दिवस'

एसओजी के अतिरिक्त महानिदेशक अशोक राठौड़ ने बताया, ”विधायकों की खरीद फरोख्त और सोशल मीडिया में वायरल हुए कथित ऑडियो की जांच के लिए आईपीसी की धारा 124 ए तथा 120 बी के तहत दो एफआईआर दर्ज की गई हैं.’’ उन्होंने कहा कि ऑडियो रिकार्डिंग में जिन संजय जैन का नाम सामने आया है, उन्हें गुरुवार को पूछताछ के लिए बुलाया गया था और उनसे पूछताछ की जा रही है.

मुख्य सचेतक जोशी ने इस बारे में गुरुवार की रात को गजेंद्र सिंह, संजय जैन और कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा के खिलाफ शिकायत देकर प्राथमिकी दर्ज कर जांच करने का आग्रह किया था.

मीडिया में वायरल हुए ऑडियो में कथित तौर पर विधायकों की खरीद फरोख्त की बात की जा रही है और कांग्रेस का दावा है कि इनमें से एक आवाज केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की भी है. हालांकि भाजपा नेताओं ने इस ऑडियो को फर्जी बताते हुए इसे खारिज किया है.

जोशी ने कहा, ”सोशल मीडिया में ऑडियो वायरल होने के बाद मैंने इसकी जांच का आग्रह करते हुए एसओजी में शिकायत की. मामला दर्ज किया गया है लेकिन मुझे इसकी कॉपी नहीं मिली है.” जोशी ने कहा कि उन्होंने पहले भी इस बारे में शिकायत की थी लेकिन साक्ष्यों को लेकर अनेक सवाल उठे और जांच में देरी हुई लेकिन यह ऑडियो एक नया साक्ष्य है. उन्होंने कहा कि ऑडियो रिकार्डिंग में जिनकी आवाज है उन्हें पहचान कर उनकी गिरफ्तारी होनी चाहिए.

वहीं, बीजेपी प्रदेश अध्‍यक्ष सतीश पूनिय ने कहा, आज जो हुआ वह राजस्थान की राजनीति के लिए शर्मनाक था। मुख्यमंत्री आवास नकली ऑडियो और नेताओं की चरित्र हत्या का प्रयास का केंद्र बन रहा है। इस मामले में केंद्रीय मंत्रियों को घसीटने का प्रयास किया गया है.

राज्य में कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार को गिराने के षड्यंत्र और विधायकों को प्रलोभन दिए जाने के मामले में एसओजी इन्हें मिला कर अब तक तीन एफआईआर दर्ज कर चुकी है.