जयपुर: जयपुर जिले की पोक्सो मामलों की विशेष कोर्ट ने किशनगढ़ रेनवाल क्षेत्र में नाबालिग पीड़िता काे घर से ले जाकर दुष्कर्म करने के अभियुक्त को दोषी करार दिया. पोक्सो कोर्ट के जज दलीप सिंह ने आरोपी बंटी नागर को दोषी करार देते हुए 20 साल कैद व दो लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है. Also Read - अंडरगारमेंट में दुबई से छिपाकर 31 लाख का सोना लाई महिला, जयपुर एयरपोर्ट पर हुई गिरफ्तार

बता दें की अदालत में सजा पर सुनवाई के दौरान दुष्कर्म के आरोपी की ओर से अधिवक्ता ने दलील देते हुए कहा कि आरोपी जवान उम्र का है और परिवार में अकेला कमाने वाला है. आरोपी के जेल में जाने से उसके परिवार पर भूखे मरने की नौबत आ जाएगी और आरोपी का भविष्य बर्बाद हो जाएगा. ऐसे में बचाव पक्ष की ओर से आरोपी के खिलाफ नरम रुख अपनाने की मांग की गई. जबकि विशेष लोक अभियोजक ने इसका विरोध किया और उन्होंने कठोर कारावास की मांग की. अदालत ने बचाव पक्ष की सभी दलीलों को खारिज करते हुए आरोपी को 20 साल के कठोर कारावास और जुर्माने से दंडित किया. Also Read - राजस्थान: मंकर संक्राति पर इस बार कोरोना के कारण नहीं होगा बहुचर्चित काइट फेस्टिवल

यह था मामला Also Read - आचार संहिता के कारण ना मिला रोजगार और ना पकड़ी विकास ने रफ्तार

विशेष लोक अभियोजक विजया पारीक ने बताया कि मामले की रिपोर्ट पीड़िता के दादा ने पुलिस थाना किशनगढ़ रेनवाल में दिनांक 25 मई 2019 को दर्ज कराई थी. इसमें कहा था कि आरोपी बंटी नागर उसकी नाबालिग पोती को उनके घर से 24 मई को मोटरसाईकल से ले गया और तलाश करने पर भी उसका पता नहीं चला है. पुलिस ने रिपोर्ट पर कार्रवाई करते हुए कोटा से आरोपी को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से पीड़िता को बरामद किया. जांच मेें पता चला कि आरोपी पीड़िता को मोटरसाईकल से कोटा ले गया था और वहां पर उसने उसके साथ दुष्कर्म किया. कोर्ट ने सबूताें व गवाहों के बयानों पर अभियुक्त का अपराध साबित होने पर उसे बीस साल कैद व जुर्माने की सजा सुनाई.