नई दिल्ली: देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं ऐसे में हर राज्य अब अधिक से अधिक टेस्ट पर ध्यान दे रही हैं. राजस्थान में भी कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है. सरकार ने जहां एक ओर कोविड-19 टेस्ट की संख्या में इजाफा किया है तो वहीं टेस्ट के नियमों में भी कुछ बदलाव किए हैं. सरकार ने अब कोविड-19 टेस्ट के लिए दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं. इस नई गाइडलाइन के अनुसार अब टेस्ट से पहले व्यक्ति का आधार कार्ड अनिवार्य रूप से देखा जाएगा. Also Read - यूएई में फंसे भारतीयों के लिए अच्छी खबर, वीजा जुर्माना किया गया माफ

अब राजस्थान में कोरोना टेस्ट के लिए आधार कार्ड होना जरूरी कर दिया गया है. अगर कोई व्यक्ति किसी जांच केंद्र में कोविड-19 टेस्ट के लिए जाता है तो उसे अपना आधार कार्ड दर्ज कराना होगा अगर व्यक्ति के पास उसका आधार कार्ड नहीं होता तो ऐसी स्थिति में उसे परिवार के मुखिया का आधार कार्ड नंबर देना होगा. अगर किसी कारणवश उनका भी आधार कार्ड नहीं है तो परिवार के किसी सदस्य का आधार नंबर देना आवश्यक होगा. Also Read - कैंप शुरू होने से पहले कप्तान मनप्रीत सिंह सहित 4 हॉकी खिलाड़ी कोरोना पॉजिटिव पाए गए

राजस्थान स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए राज्य की सभी कोरोना जांच केंद्रों और उनके लैब टेक्नीशियन को इससे संबंधित निर्देश जारी कर दिए हैं. निर्देश में कहा गया है कि वे मरीज का सैंपल लेने के दौरान आरटी-पीसीआर ऐप (RT-PCR App) में मरीज (patient) से संबंधित तमाम जानकारियां अपलोड करना आवश्यक होगा. सरकार की तरफ से सभी लैब टेक्नीशियनों को सख्त आदेश दिए गए हैं कि कि वे मरीज के आधार कार्ड का नंबर (Aadhaar card number) जरूर दर्ज करें. Also Read - कोरोना संकट के बीच भारत में कब से खुलेंगे स्कूल? इस दिन से शुरू हो सकती हैं सीनियर क्लासेस

सरकार का कहना है कि राज्य में कुछ लोग अपनी सही जानकारी नहीं दे रहे हैं जिससे मरीजों को ट्रैक कर पाना बहुत मुश्किल हो रहा है जिसकी वजह से लगातार संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं. अगर आधार कार्ड होगा तो ऐसे मरीज जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उसके परिवार या फिर मोहल्ले को आसानी से कंटेनमेंट जोन घोषित करके सभी घरों में जांच की जा सकती है.