राजस्थान के बाड़मेर सेक्टर के पास NH-925A पर इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का उद्घाटन किया गया, इस दौरान इसमें इंडियन एयरफोर्स के फाइटर जेट्स और ट्रांसपोर्ट विमानों ने लैंडिंग की है. इससे पहले केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने आज बाड़मेर सेक्टर के पास NH-925A पर इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का उद्घाटन किया है. इस इमरजेंसी हवाई पट्टी से पकिस्‍तान की सीमा करीब 40 किलोमीटर दूर लगी हुई है. वहीं, इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह राजस्थान के जालोर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक आपातकालीन लैंडिंग फील्ड के उद्घाटन के अवसर पर कहा, अंतरराष्ट्रीय सीमा के इतने करीब एक आपातकालीन लैंडिंग फील्ड होने से पता चलता है कि भारत अपनी एकता, अखंडता और संप्रभुता की रक्षा के लिए हमेशा तैयार है. यह दर्शाता है कि भारत किसी भी चुनौती से निपटने में सक्षम है.Also Read - Rajasthan: REET Exam के कैंडिडेट्स ने अलवर में परीक्षा का बॉयकॉट कर प्रदर्शन किया, पेपर लीक होने की अफवाह फैलाई

Also Read - महामारी के बीच दूसरे देशों का दौरा करने के बाद पाकिस्तान के साथ हुआ बुरा बर्ताव हुआ: इयान चैपल

राजस्थान में जालोर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहली बार सुखोई सुखोई एसयू-30 एमकेआई लड़ाकू विमान उतरा. Also Read - प्रधानमंत्री मोदी की सभी बैठकों में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद का लिया गया संज्ञान: विदेश सचिव

राजस्थान के जालोर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर आपातकालीन फील्ड पर C-130J सुपर हरक्यूलिस परिवहन विमान ने भी लैंडिंग की है.

कार्यक्रम में केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के साथ एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत समेत कई वरिष्‍ठ अधिकारी मौजूद रहे.

यह दर्शाता है कि भारत किसी भी चुनौती से निपटने में सक्षम है: रक्षा मंत्री 
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह राजस्थान के जालोर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक आपातकालीन लैंडिंग फील्ड के उद्घाटन के अवसर पर कहा, अंतरराष्ट्रीय सीमा के इतने करीब एक आपातकालीन लैंडिंग फील्ड होने से पता चलता है कि भारत अपनी एकता, अखंडता और संप्रभुता की रक्षा के लिए हमेशा तैयार है. यह दर्शाता है कि भारत किसी भी चुनौती से निपटने में सक्षम है.

राजस्थान के जालोर में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ”यह आपातकालीन लैंडिंग फील्ड और तीन हेलीपैड न केवल युद्ध के समय में उपयोगी होंगे बल्कि किसी भी प्राकृतिक आपदा के दौरान बचाव और राहत कार्य करने के लिए उपयोगी होंगे. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ”भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण 20 स्थानों पर आपातकालीन लैंडिंग फील्ड तैयार कर रहा है और कई स्थानों पर हेलीपैड भी बना रहा है. यह एक बड़ी उपलब्धि है.”

नितिन गडकरी ने कहा- जब भी कोई आउट-ऑफ-द-बॉक्स विचार पर आशंकाएं उभर आती हैं
राजस्थान के जालौर में आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, जब भी कोई आउट-ऑफ-द-बॉक्स विचार प्रस्तावित किया जाता है, तो आशंकाएं उभर आती हैं. लेकिन रक्षा मंत्रालय और वायु सेना के समर्थन के लिए खुशी है, जिसके कारण 3 किमी लंबी सड़क-सह-हवाई पट्टी को सफलतापूर्वक लॉन्‍च किया गया. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, हमने भारतमाला परियोजना के तहत करीब 45 करोड़ की लागत से 3 किलोमीटर लंबी एयरस्ट्रिप तैयार की है. इसकी क्वालिटी बहुत अच्छी है. इसका उपयोग भारतीय वायुसेना की आपातकालीन लैंडिंग के लिए होगा.

कोरोना के बावजूद भी हमने प्रतिदिन 38 किलोमीटर रोड बनाया, जो दुनिया में सबसे ज़्यादा
केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने कहा- हमलोग प्रतिदिन 2 किलोमीटर सड़क बनाने तक आए थे. कोरोना के बावजूद भी हमने प्रतिदिन 38 किलोमीटर सड़क बनाया है जो दुनिया में सबसे ज़्यादा है. मुंबई और दिल्ली के बीच हमलोग एक्सप्रेस हाईवे बना रहे हैं जिसका 60-65% काम पूरा हुआ है.

ऐसी है ये इमर्जेंसी एयरस्‍ट्र‍िप
– लंबाई: 3 किलोमीटर
– चौड़ाई: 33 मीटर
– 25 मीटर बाय 65 मी. डबल स्‍टोरी एटीसी केबिन
– 40 मीटर बाय 180 मीटर की पार्किंग सुविधा स्‍ट्र‍िप के दोनों ओर

– 1.5 मीटर फेंसिंग ऑपरेशन के दौरान ग्रामीणों के लि‍ए
-7.0 मीटर डाइर्सन रोड, फ्लेक्‍स‍िबल पेवमेंट
-लागत- 32.95 करोड़ रुपए

बाड़मेर जालौर हाईवे पर इस हवाई पट्‌टी को बनाने में करीब 33 करोड़ रुपए की लागत आई है. रक्षा और ट्रांसपोर्ट मंत्रालय सुयुक्‍त रूप देश में इस तरह के करीब हाईवे पर 20 इमजेंसी लैंडिंग स्ट्रिप तैयार की जा रहीं हैं.
पाकिस्तान बॉर्डर से सटी देश की यह पहली इमरजेंसी एयरस्‍ट्र‍िप है, जहां पर C-130J सुपर हरक्यूलिस परिवहन विमान के अलावा जगुआर, सुखोई और मिग जैसे फाइटर जेट भी इसी हाईवे पर लैंड कर सके.